| | Contact: 8407908145 |
    Published On : Mon, Sep 14th, 2020

    इलेक्ट्रिक बस थमी तो फिर जागे प्रदीप-संबंध

    – Olectra Greentech Ltd के तरफ से EVEY TRANS PRIVATE LIMITED के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) कुमार संबंध पुनः मंगलवार को नागपुर पहुँच मामला जड़ से ख़त्म करने के आश्वासन बाद रविवार से बस सेवा यथावत हुई

    नागपुर – तेजश्विनी बस के संचालक के उप ठेकेदार ने मनपा परिवहन विभाग को मेल द्वारा लगभग 1 वर्ष से भुगतान न किये जाने पर शनिवार 12 सितम्बर की दोपहर बाद बस संचलन रोकने का अल्टीमेटम दिया,इस घटनाक्रम की EVEY TRANS PRIVATE LIMITED के निदेशक को जानकारी देकर मसला सुलझाने की गुजारिश की गई लेकिन शनिवार ढाई बजे तक उनके कानों पर जूं नहीं रेंगा नतीजा बसों का संचलन बंद कर दिया गया फिर EVEY TRANS PRIVATE LIMITED के प्रबंधन की नींद खुली और उनकी तरफ से निदेशक के निर्देश पर मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) कुमार संबंध ने दोबारा ठोस आश्वासन दिया कि वे मंगलवार १५ सितम्बर को नागपुर पहुँच कर मामला सुलझा देंगे फ़िलहाल कम से कम मंगलवार तक पुनः बसों का संचलन यथावत करें।इस आश्वासन बाद Olectra Greentech Ltd द्वारा बसों के संचलन के नियुक्त स्थानीय उप ठेकेदार कंपनी ने रविवार से सेवा शुरू की.

    याद रहे कि मनपा परिवहन विभाग के पूर्व सभापति बंटी कुकड़े ने मनपा प्रशासन से काफी जिद्दोजहद कर 5 महिला स्पेशल तेजश्विनी बस का संचलन लगभग 1 वर्ष पूर्व शुरू किया था.जिसके लिए लगभग 6 माह पूर्व राज्य सरकार ने अनुदान दिया था.5 बस खरीदने के बाद बचे शेष अनुदान से एक और इलेक्ट्रिक बस इस बेड़े में शामिल करने के लिए आपूर्तिकर्ता मेसर्स ओलेक्ट्रा ग्रीनटेक प्राइवेट लिमिटेड को सभी प्रक्रिया पूर्ण कर महीनों पूर्व आदेश भी दिया जा चूका था,लेकिन आजतक वह बस उपलब्ध करवाने में निर्माता कंपनी असफल रही.

    मनपा और आपूर्तिकर्ता निर्माता कंपनी ओलेक्ट्रा ग्रीन टेक लिमिटेड ( Olectra Greentech Ltd (Formerly Goldstone Infratech Ltd) के मध्य एक करार हुआ था कि उक्त इलेक्ट्रिक बसों का संचलन भी ओलेक्ट्रा ही करेगी।इसके बाद ओलेक्ट्रा ने उप ठेकेदार (SUB CONTRACTOR ) नियुक्त कर बस चालक सह अन्य लगभग डेढ़ दर्जन कर्मी नियुक्त किये और उन्हीं से आजतक काम लिया जा रहा.

    यह भी कड़वा सत्य हैं कि मनपा प्रशासन और ओलेक्ट्रा के मध्य करार के अनुरूप खानापूर्ति को लेकर मामला विवाद में होने या दोनों के मध्य समन्वय का आभाव होने से आजतक मनपा प्रशासन ने ओलेक्ट्रा को बस संचलन के एवज में फूटी-कौड़ी नहीं दी.तो ओलेक्ट्रा ने भी न उप ठेकेदार (SUB CONTRACTOR ) और न ही कार्यरत लगभग डेढ़ दर्जन कर्मियों को पिछले एक साल से मासिक वेतन नहीं दी.

    ओलेक्ट्रा को उप ठेकेदार (SUB CONTRACTOR ) और उप ठेकेदार (SUB CONTRACTOR ) को उनके डेढ़ दर्जन कर्मी मिन्नतें करते-करते थक गए.जबकि इस कोविड-१९ काल में इन्हीं बस सह कर्मियों की मनपा प्रशासन ने भरपूर सेवा ली और ले ही रही हैं.

    नतीजा उप ठेकेदार (SUB CONTRACTOR ) ने थक-हार कर मनपा प्रशासन सह परिवहन विभाग को मेल द्वारा बीते शनिवार दोपहर बाद से बसों का संचलन ( OPERATIONAL FAILURE ) बंद करने की सूचना देने के बाद लगभग ढाई बजे दोपहर से बसों का संचलन बंद कर दिया था.

    ओलेक्ट्रा ग्रीनटेक लिमिटेड के तरफ से EVEY TRANS PRIVATE LIMITED बसों का संचलन कर रही.उक्त मामलात पर इस समूह के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) कुमार संबंध कुछ दिन पूर्व नागपुर आये,उन्होंने बड़े गर्मजोशी से जो वादा किए उसे पूरा नहीं करने से मामला बिगड़ गया था.
    ज्वलंत सवाल यह हैं कि जब EVEY TRANS PRIVATE LIMITED को 5 बस संचलन में इतनी अड़चन आ रही,तो उन्हें मिली 40 इलेक्ट्रिक बसों का संचलन में कितनी अड़चनें आएंगी।सवाल यह भी हैं कि ठेका ओलेक्ट्रा को और संचलन का करार EVEY TRANS से ,फ़िलहाल समझ से परे हैं.संपूर्ण मामले का अध्ययन शुरू हैं ,इसके बाद ही ‘दूध का दूध व पानी का पानी हो पाएगा।

    Also Read: https://www.nagpurtoday.in/womens-special-tejashwini-bus-likely-to-operation-failure/09121224

    तेजश्विनी बस भी ‘ग्रीन बस’ की राह पर

    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145