Published On : Tue, May 23rd, 2017

विदर्भ राज्य आंदोलन समिति का कार्यकर्ता सम्मलेन संपन्न, कार्यकारिणी घोषित

File Pic


नागपुर: 
सोमवार को विदर्भ राज्य आंदोलन समिति की ओर से मानेवाड़ा रोड के मार्केंडय सभागृह में कार्यकर्ता सम्मलेन का आयोजन किया गया था. कार्यक्रम की अध्यक्षता अधिवक्ता वामनराव चटप ने की. मुख्य संयोजक राम नेवले, वित्त विशेषज्ञ डॉ. श्रीनिवास खांदेवाले, अरविंद देशमुख, अधिवक्ता अर्चना नंदघले, प्रभाकर कोहले और राजकुमार नगुलवार मौजूद थे. इस दौरान राम नेवले ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यकाल को तीन वर्ष पूरे हो चुके हैं, फिर भी किसान आत्महत्याएं नहीं रुकी है. नोटबंदी के तुगलकी फरमान के बाद किसानों द्वारा उत्पादित फसल के भाव नीचे आ गए हैं. जिस वजह से ग्रामीण भारत की अर्थव्यवस्था चरमरा गई है. नोटबंदी के कारण छोटे बड़े कई उद्योग बंद हो चुके हैं जो बेरोजगारी बढ़ा रहे हैं.

डॉ. खांदेवाले ने शहर के केंद्रीय मंत्री और मुख्यमंत्री पर निशाना साधते हुए कहा कि अब वे विदर्भ की नहीं बल्कि विकास की बात करते हैं. अंग्रेजों ने रेलवे, पुल और सड़कें आदि बनाई थीं. उन्होंने भी देश का विकास किया था, तो क्या भारतीयों ने उनके साथ लड़ाई नहीं की थी क्या? उन्होंने कहा कि विकास के नाम पर विदर्भ का मुद्दा दबाया जा रहा है.

इस दौरान पूर्व विधायक वामनराव चटप ने सरकार पर आक्रामक रवैय्या अपनाते हुए कहा कि अब विदर्भ की लड़ाई आर पार की होगी. विदर्भ राज्य लेने तक हम यह लड़ाई जारी रखेंगे. इसके बाद समिति की कार्यकारिणी नागपुर अध्यक्ष राजकुमार नागुलवार ने घोषित की. इस दौरान सैकड़ों की तादाद में विदर्भ के कार्यकर्ता मौजूद थे.