Published On : Thu, Aug 29th, 2019

SCZCC-भारत विकास परिषद की प्रतियोगिता में गुंजा राष्ट्रभक्ती का स्वर

नागपुर :दक्षिण मध्य क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र एवं भारत विकास परिषद कें संयुक्त तत्वावधान में आयोजित राष्ट्रीय समुहगान प्रतियोगिता में दक्षिण पश्चिम विभाग सें सोमलवार स्कुल-खामला एवं दक्षिण-ऑरेंज सिटी विभाग से स्कुल ऑफ स्कॉलर्स-बेलतरोडीनें विजेता का खिताब जीत लिया. रामनगर कें भातृमंडल सभागार में प्रतियोगिता संपन्न हुई. प्रतियोगिता में दक्षिण पश्चिम क्षेत्र सें मुंडले इंग्लिश मिडीयम स्कुल को एवं दक्षिण ऑरेंज क्षेत्र से पं. बच्छराज व्यास स्कुल को उपविजेता घोषित किया गया.

SCZCC कें निदेशक डॉ दीपक खिरवडकर एवं सेन्सॉर बोर्ड की सदस्या डॉ रमा गोलवलकर नें दीपप्रज्वलन कर समुहगान स्पर्धा का अनौपचारिक उद्-घाटन किया. डॉ खिरवडकर नें कहाँ, देशभक्तीपर गीतों का संस्कार अनुठा एवं अमिट हैं. समुहगान कें माध्यम सें देश में एकता भावना दृढ की जा सकती हैं. रमा गोलवलकर नें कला एवं संस्कृती का महत्व समझातें, देश कें मिट्टी सें जुडी प्रत्येक कला एवं भाषा कें वर्धन की बात कहीं.

समुहगान प्रतियोगिता में नागपुर कें १९ विद्यालयों नें हिस्सा लिया. हिंदी एवं संस्कृत भाषा में गीतों की प्रस्तुती हुयी. सुबह ९ बजे आरंभ हुई यह प्रतियोगिता शीम ५ बजे समाप्त हुई. समाज सेवक शरद बागडी एवं अशोक दवंडे के हाथों विजेता एवं उपविजेता विद्यालयों को ट्रॉफी देकर पुरस्कृत किया गया…दोनों समुह कें विजेता सदस्य को वैयक्तिक ट्रॉफी देकर नवाजा गया.

रसिका कुलकर्णी, डॉ वैखरी वझलवार एवं गायत्री खेडकर नें परीक्षक का काम किया. चंद्रशेखर घुशे सारिका पेंडसे, संजय गुलकरी, निलिमा बावणे, दिलीप गुलकरी, विष्णु बक्षी, छाया शुक्ला, प्रकाश मुठाल, सुप्रिया पुणतांबेकर, मिलिंद देशमुख, दिलीप चांद्रायण मान्यवर पुरस्कार वितरण समारोह में उपस्थित थें. कर्नल अविनाश मुले एवं कौस्तुभ लुलेनें प्रतियोगिता कें यशस्विता कें लिए परिश्रम लिए. संदीप झंवरनें मंच संचालन किया.