Published On : Thu, Mar 22nd, 2018

शिक्षा से ही बहुमुखी विकास संभव डॉ. सत्यापाल सिंह


नागपुर: केंद्रीय मानव संसाधन विकास जल संसाधन नदी विकास तथा गंगा शुध्दिकरण राज्य मंत्री डॉ. सत्यापाल सिंह ने कहा कि शिक्षा के द्वारा ही युवाओं का सर्वागीण विकास संभव है डॉ. सिंह आज नागपुर में सेंट्रल इन्डिया ग्रुप ऑफ इस्टीट्यूट द्वारा आयोजित एक दिवसीय सेमिनार के समापन सत्र को सम्बोधित कर रहे थे उन्होने कहा कि देश में वर्तमान में चल रही शिक्षा नीति की प्रासंगिकता में अब बदलाव की जरुरत महसूस की जा रही ताकि युवाओं के लिए शिक्षा के साथ-साथ स्व-रोजगार के नए अवसर भी सृजनित किए जा सकें और युवा भविष्य में देश को अपना योगदान दे सकें इसके लिए नई शिक्षा नाति के मसौदे पर काम जल रहा है और जल्दी ही उसमें बदलाव किया जा सकेगा फार्मासी की शिक्षा के विषय में बोलते हुए डॉ. सिंह ने कहा कि इसके पाठ्यक्रम में एलोपैथी के साथ- साथ आयुर्वैदिक, होम्योपैथी तथा यूनानी दवाओँ की जानकारी भी शामिल की जानी चाहिए और मैं इस विषय पर मंत्रालय में अधिकारियों को सुझाव दूंगा क्योंकि आपसे बातचीत करते –करते जेहन में ये विचार आया है।

ओल्ड एज होम के विषय में बोलते हुए डॉ. सिंह ने कहा कि जिस दिन हमारे स्कूल कालेजों में बच्चों को ये पढाया जाने लगेगा कि माता –पिता ईश्वर के रुप होते हैं उस दिन ओल्ड एज होम की जरुरत ही नही रहेगी । डॉ. सत्यापाल सिंह ने कहा कि शिक्षा का सबसे बडा उद्देश्य बच्चों का समग्र विकास है तब शारीरिक और बौधि्दक विकास होगा तभी देश का वातावरण बदलेगा। और हम शरीरिक व्याधियों पर नियंत्रण रख पाएंगे। उन्होंने कहा कि टेक्नॉलाजी से यो तो पता चलता है कि बीमारी क्या है लेकिन कोई टेक्नॉलाजी ये नही बता सकती कि स्वस्थ कैसे रहना है।


प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी की स्वास्थ्य बीमा योजना ‘आयुष्मान भारत’ का जिक्र करते हुए उन्होने कहा कि इसके लागू होने से देश के करीब ११ करोड परिवारों को पांच लाख रु. का बीमा कवर मिल सकेगा जिससे कि वे अपनी बीमारी का ईलाज करवा सकेंगे। उन्होने कहा कि वर्तमान में देश में इंजीनीरिंग कॉलोजों की ५० प्रतिशत सीटे खाली रह गई है । जो बताता है कि अब शैक्षणिक स्तर पर बदलाव की आवश्यकता है। डॉ. सिंह ने बताया इस महीने के ३० तारीख को देश भर के एक लाख से अधिक इंजीनियर भाग लेंगे। और लगातार ३६ घण्टे तक देश की समस्याओं पर विचार विमर्श और सुझाव देंगे । उन्होने कहा कि शिक्षा ऐसी होनी चाहिए जिसमें हमारी हमारे परिवार की और देश की तरक्की हो सके। इस मौके पर संस्थान के संस्थापक पूर्व विधायक अनीस अहमद श्रीमती विमला जी ग्रामीण आजीविका मिशन प्रमुख श्री अतुल कोटेचा जुल्फिकार भुट्टो सहित बडी संख्या में छात्र और छात्राएं और गणमान्य नागरिक मौजूद थे । कार्यालय में संस्थान के प्रतिभाशाली छात्र व छात्राओं को सम्मानित किया गया।