Published On : Thu, Jul 15th, 2021

बोखारा ग्राम पंचायत में धांधली पर उठापठक

– दर्जन भर सदस्य आज दोपहर देंगे इस्तीफा

नागपुर : माहभर पहले बोखारा ग्रामपंचायत की बैठक में सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया गया था कि किसी भी प्रकार की भुगतान के पूर्व उसमें आमसभा की मंजूरी अनिवार्य की गई थी,इसके बावजूद सरपंच,ग्राम सचिव और BDO की मिलीभगत से टैंकर संचालकों के नाम 20 लाख का फर्जी बिल मंजूर किया गया.इससे क्षुब्ध सर्वपक्षीय दर्जन भर ग्राम पंचायत सदस्य आज दोपहर अपना इस्तीफा सौंपने की विश्वसनीय जानकारी मिली हैं.

विश्वसनीय सूत्रों के अनुसार बोखारा ग्रामपंचायत हमेशा चर्चे में रहती हैं.इस ग्राम पंचायत के कुल 17 सदस्य हैं.ग्राम पंचायत अंतर्गत रहवासी क्षेत्र में पिछले वर्ष मई-जून माह में टैंकरों से जलापूर्ति की गई थी.ग्राम पंचायत सदस्यों के सिफारिश पर कुल 3 टैंकर से लगभग 250 ट्रिप जलापूर्ति की गई थी.

दूसरी ओर ग्रामपंचायत के सरपंच,ग्राम सचिव और BDO की तिकड़ी ने 956 ट्रिप का हिसाब-किताब शासन को भेज उसके लिए निधि मंगवाई। इसकी भनक लगते ही ग्रामपंचायत के 12 सदस्यों ने जिलापरिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी,नागपुर ग्रामीण के उपविभागीय अधिकारी और खंड विकास अधिकारी से लिखित शिकायत कर उच्च स्तरीय जाँच की मांग की.उक्त अधिकारियों ने जाँच न करते हुए सप्ताह भर बाद टैंकर संचालकों को फर्जी बिलों के आधार पर भुगतान कर दिया,जिससे उक्त 12 ग्रामपंचायत सदस्य बौखला गए.

उक्त 12 सदस्यों ने ग्राम सचिव से उक्त मामले में जवाब-तलब की तो उन्हें सचिव ने जानकारी दी कि वे BDO के दबाव में उक्त भुगतान जारी किए.
इसके खिलाफ उक्त विरोधकर्ता सदस्यों ने सामूहिक इस्तीफा देने का निर्णय लिया,आज दोपहर लगभग सर्वपक्षीय 12 ग्रामपंचायत सदस्य बोखारा ग्रामपंचायत पहुँच होना इस्तीफा सौंपेगे।