Published On : Thu, Apr 15th, 2021

महापौर के निवेदन पर तीन लाख रेमडिसीवीर उपलब्ध


नागपुर: हल ही में केंद्र सरकार ने रेमडिसीवीर इंजेक्शन के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया है. कोरोना महामारी के महासंकट के दौरान देश के मरीज़ों के लिए तीन लाख इंजेक्शन उपलब्ध कराए गए हैं. विशेष बात तो यह है कि महापौर दयाशंकर तिवारी ने केंद्र सरकार से निवेदन किया कि एक्सपोर्ट बंद होने के बाद उत्पादकों द्वारा बनाया माल भारतीय बाज़ारों में बेचने की अनुमति दी जाए.

इस संदर्भ में जानकारी देते हुए महापौर दयाशंकर तिवारी ने कहा कि इस बारे में वॉट्सअप्प पर उन्हें एक मैसेज मिली थी की केंद्र सरकार ने रेमडिसीवीर के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया है. लेकिन उत्पादकों को केवल निर्यात की अनुमति थी. उत्पादित माल को भारतीय बाज़ारों में बेचने की अनुमति नहीं थी. इसके चलते निर्यात में प्रतिबंध लगने के बाद इंजेक्शन उत्पादक कंपनियों के पास बड़ी संख्या में इंजेक्शन उपलब्ध होंगे. अतः यदि उन्हें अनुमति मिले तो वे इस इंजेक्शन के स्टॉक का उपयोग देश के कोरोना मरीज़ों के इलाज के लिए कर सकते हैं. इस बात को ध्यान में रखते हुए महापौर ने केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फडणवीस के साथ इस विषय पर चर्चा की. उन्होंने केंद्र सरकार को पत्र लिखकर इंजेक्शन को देश के बाज़ारों में बेचने की अनुमति देने का निवेदन किया.

महापौर के निवेदन पर गौर करते हुए केंद्र सरकार ने कोरोना मरीज़ों के हित में निर्णय लिया है. इसके लिए उन्होंने केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फडणवीस और केंद्र सरकार का आभार माना. उन्होंने कहा कि यह कदम उठाने से कई कोरोना मरीज़ों की जान बचाई जा सकती है.