Published On : Thu, Apr 15th, 2021

कड़े लॉकडाउन के कार्यान्वयन के लिए 2500 पुलिसकर्मी तैनात

– शहर में 66 स्थानों पर लगाई गई नाकाबंदी


नागपुर. कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए राज्य सरकार ने 15 दिनों तक कड़क लॉकडाउन की घोषणा की है. इसके चलते पुलिस ने अपनी कमर कस ली है. शहर में कोविड अस्पतालों में हो रहे तनाव और तोडफोड की घटनाओं के मद्देनज़र सभी अस्पतालों में पुलिसकर्मियों को तैनात करने का निर्णय लिया गया है. इसी तरह शहर में 66 जगहों पर पुलिस ने नाकाबंदी कर दी है. पुलिस आयुक्त अमितेश कुमार ने कहा कि सड़क पर नाकाबंदी करने के साथ साथ सभी पुलिस थानों में पुलिसकर्मियों को अलर्ट पर रखा गया है. पुलिस विभाग नागरिकों को परेशान नहीं करना चाहती है, लेकिन लोगों के बेवजह घर से बहार निकलने के कारण पुलिस को कड़ा रुख अपनाना पड़ रहा है. लोगों के बहाने भी बहुत विचित्र है. हालांकि कई लोगों के घर के निकट ही आवश्यक वस्तुओं के दुकान हैं, लेकिन फिर भी पुलिस को चकमा देकर आवश्यक वस्तुएं खरीदने के नाम पर लोग वाहन लेकर पूरे शहर में घूम रहे हैं. इसके चलते पुलिस विभाग ने निर्णय लिया है कि बेवजह घूमनेवाले नागरिकों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी.

पुलिस फोर्स के साथ साथ एसआरपीएफ और होमगार्ड भी सक्रीय
कड़े लॉकडाउन को अमल में लाने के लिए सभी पुलिस थानों के अंतर्गत पुलिस टीमें निरंतर गश्त लगाएंगी. वाहनों में लगे लाउडस्पिकर के माध्यम से लोगों को घर में रहने का आवाहन किया जाएगा. यदि समझाने के बावजूद कोई बेवजह बाहर निकला तो उसे एक दिन के लिए पुलिस लॉकअप में रखा जाएगा. सरकार ने अपने आदेश में स्पष्ट किया है कि कौन से दुकान-प्रतिष्ठान खुले रहेंगे और कौन से बंद रहेंगे. ऐसी परिस्थिति में यदि किसी व्यावसायिक प्रतिष्ठान को नियमों का उल्लंघन करते हुए पाया गया तो उस प्रतिष्ठान से जुर्माना वसूल किया जाएगा और महामारी अधिनियम के अंतर्गत मामला दर्ज किया जाएगा. बंदोबस्त के लिए एसआरपीएफ की 2 टुकड़ियों की भी मदद ली जा सकती है. इसी तरह 500 होमगार्ड जवानों की सेवाएं भी ली जाएंगी. पूरे शहर में तकरीबन 2500 पुलिसकर्मी तैनात हैं.

कोविड अस्पतालों में तैनात होंगे पुलिसकर्मी
अस्पतालों में मरीज़ों के परिजनों द्वारा तोड़फोड़ करने के कई मामले सामने आ रहे हैं. कुछ अस्पतालों में डॉक्टर- प्रशासन की ओर से लापरवाही हो सकती है. लेकिन जिस तरह पीड़ित मरीज़ के परिजन अस्पतालों में तोड़फोड़ कर रहे हैं और संपत्ति को जला रहे हैं, इससे दुसरे मरीज़ों और नागरिकों के लिए भी खतरा पैदा हो गया है. अतः सभी कोविड अस्पतालों में दिन रात कम से कम 2 पुलिसकर्मियों को तैनात करने का निर्णय लिया गया है. इसी तरह उस संबंधित क्षेत्र के थानेदार को भी अस्पताल में सुरक्षा व्यवस्था का समय समय पर जायज़ा लेना होगा. सभी अस्पताल प्रशासन के वरिष्ठ सदस्यों ने एक विशेष व्हाट्सएप ग्रुप भी बनाया है.


पुलिस-प्रशासन के निर्देशों का पालन करें
बुधवार को पुलिस ने 27 लोगों को बिना मास्क के घुमते हुए पकड़ा और उनके खिलाफ कार्रवाई की. इसी तरह सामाजिक दूरी के नियम का उल्लंघन करने वाले 101 नागरिकों पर कार्रवाई की गई और उनसे जुर्माना वसूला गया. पुलिस विभाग ने नागरिकों से आवाहन किया है कि केवल आवश्यक कार्यों के लिए ही घर से बाहर निकलें.