Published On : Thu, Sep 13th, 2018

फिर बेज़ुबान लहूलुहान : लावारिस श्वान की बेरहमी से पीटकर ज़ख़्मी करने की एक और हिंसा आई सामने

नागपुर: पारडी नवीन नगर-श्याम नगर बाजार चौक के पास एक श्वान को जख्मी करने का मामला सामने आया है. जानकारी के अनुसार नवीन नगर-श्याम नगर बाजार चौक के पास मंगला उर्फ गौरी छत्तर नाम की युवती रहती है. पशुप्रमी मंगला आवारा करीब 15 से 18 श्वानों को बिना किसी स्वार्थ के रोजाना भोजन खिलाने का काम पिछले कुछ सालों से करती आ रही हैं. मंगलवार की सुबह पास ही रहने वाले सुरेश वर्मा नाम के व्यक्ति ने सड़क के श्वान को बड़ी बेदर्दी से लहूलुहान होने तक पीटा, जिससे श्वान के मुँह से खून बहने लगा और आंखों के नीचे के घाव से भी खून निकलने लगा. इस घटना का पता चलते ही गौरी छत्तर ने पशुप्रेमी संगठन के स्वप्निल बोधाने को सूचना दी और तुरंत जख्मी श्वान (उम्र अंदाजन 7- 8 महीने (नर) को इलाज के लिए भांडेवाड़ी स्थित नागपुर महानगर पालिका के पशुनिवारा केंद्र में भर्ती किया. उस जख्मी श्वान का तुरंत पशुवैद्यकीय डॉक्टर आशिष जैस्वाल द्वारा इलाज किया गया. श्वान की हालत स्थिर होने तक उसे पशुनिवारा केंद्र में एडमिट किया गया है.

ऐसी हिंसक घटनाओं को अंजाम देने वाले सुरेश वर्मा नाम के व्यक्ति के ऊपर क़ानूनी कार्यवाही हो इसलिए गौरी छत्तर ने किंग कोबरा संगठन के अध्यक्ष अरविंदकुमार रतूड़ी, स्वप्निल बोधाने, शुभम पराले को संबधित घटना का ब्यौरा दिया. जानकारी मिलते ही तुरंत संघटन के पदाधिकारी कलमना पुलिस स्टेशन में पहुँचकर संस्था अध्यक्ष अरविंद कुमार रतूड़ी ने पुलिस अधिकारी से बात की और इस प्रकरण को गंभीरता से लेकर पुलिस ने तुरंत पशुक्रूरता अधिनियम की विभिन्न धाराओं के अंतर्गत मामला दर्ज किया.

इस बारे में कलमना पुलिस स्टेशन के पुलिस निरीक्षक तिजारे ने कहा कि जिसने श्वान को मारा है उसके बच्चे को श्वान काटने के लिए दौड़ा था. ऐसा उसका कहना था. जिसके कारण उस व्यक्ति ने श्वान को मारा. शिकायत के आधार पर उसे कल पुलिस स्टेशन में लाया गया था. पशु क्रूरता अधिनियम के तहत कार्रवाई की गई. उसे जमानत मिल गईं है.

इस बारे में किंग कोबरा ऑर्गनायझेशन के अरविन्द रतूड़ी ने कहा कि सड़क के श्वानों और अन्य पशुओं को किसी भी व्यक्ति द्वारा हानी पहुचाई जाती है तो उस व्यक्ति के ऊपर पशुक्रूरता अधिनियम के अंतर्गत कार्यवाही की जा सकती है, इसलिए ऐसी घटनाओं की जानकारी नजदीकी पुलिस स्टेशन को नागरिकों द्वारा देनी चाहिए .