Published On : Tue, Sep 22nd, 2020

भारतीय स्टेट बैंक का कार्य रामभरोसे,प्रशासन अनजान व जनता परेशान

खापड़खेड़ा : बैंक प्रशासन की अनदेखी लापरवाही के कारण खापरखेड़ा भारतीय स्टेट बैंक का कार्य रामभरोसे शुरू हैं,बताया जाता हैं कि, पिछले तीन चार महीनों से खापरखेड़ा ब्रांच में बैंक मैनेजर नही है बिना मैनेजर के बैंक शुरू हैं,कर्मचारियों के अभाव के कारण खाताधारकों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है,सरकार द्वारा अनेक प्रकार की शासकीय योजनाएं चलाई जा रही हैं,लेकिन बैंक मैनेजर कार्यरत नही होने की वजह से शासकीय योजनाओं का लाभ लाभार्थियों को नही मिल रहा है लाभार्थी बैंक के चक्कर लगा रहे हैं

जिस वजह से लोगों में काफी रोष बना हुआ है लेकिन बैंक प्रशासन द्वारा किसी प्रकार का ध्यान नही दिया जा रहा है,खापरखेड़ा परिसर में कार्यरत सभी बैंक एटीएम की सुरक्षा रामभरोसे दिखाई दिखाई दे रही हैं आपको बता दें कि, खापरखेड़ा परिसर में ऐक्सिस बैंक, युनियन बैंक, देना बैंक, बैंक ऑफ इंडिया,भारतीय स्टेट बैंक, एच डी एफ सी बैंक, आय सी आय सी बैंक, यह सभी बैंकों के एटीएम कार्यरत हैं लेकिन। बैंक प्रशासन की अनदेखी लापरवाही की वजह से सभी बैंकों के एटीएम की सुरक्षा रामभरोसे बनी हुई हैं इस बात को लेकर प्रशासन अनजान व जनता परेशान दिखाई दे रही हैं खापरखेड़ा परिसर में स्कूल,कॉलेज,दवाखाना, शासकीय तथा निमशासकीय यह आदि कार्यालय मौजूद हैं औद्योगिक क्षेत्र होने के कारण यहां पर बड़े पैमाने पर लोग रहते हैं खापरखेड़ा पहिले की अपेक्षा काफी बड़ा शहर बन चुका है

आजु बाजु गांव परिसर के लोग हर दिन अपने पैसे जमा करने तथा निकालने के लिए बैंक तथा एटीएम में आना जाना करते हैं लेकिन सुरक्षा की व्यवस्था नहीं होने के कारण लोगों में भय व चिंता का माहौल बना हुआ है इस ओर संबंधित बैंक प्रशासन को गंभीरता के साथ ध्यान देने की जरूरत है खापरखेड़ा अतिसंवेदनशील क्षेत्र होने के कारण आसामाजिक तत्त्वों द्वारा बैंक परिसर में कई बार चोरी तथा आपराधिक घटनाओं को अंजाम दिया गया हैं समय रहते हुए ध्यान नहीं दिया गया तो कभी भी जानमाल की हानि हो सकती हैं

इन बातों को नजर अंदाज नहीं किया जा सकता संबंधित शासन व प्रशासन ने आम जनता की गंभीर समस्याओं को ध्यान में रखते हुए सभी बैंक एटीएम में सुरक्षा रक्षक की व्यवस्था करना चाहिए इस प्रकार की मांग आम जनता द्वारा की जा रही हैं अब यह देखना है कि, संबंधित बैंक प्रशासन द्वारा आगे क्या कदम उठाए जाते हैं इस पर आम जनता की नजर लगी हुई हैं