Published On : Mon, Jul 13th, 2020

विधायक ने अपशब्द कहे तो महापौर ने मांगी माफी

मनपा नगर रचना विभाग के ADTP प्रमोद गावंडे से भाजपा विधायक प्रवीण दटके की हुई हुज्जत पर अधिकारियों की ‘लेखनी बंद’ आंदोलन

नागपुर: मनपा में रोजाना नए-नए कारनामें हो रहे,इससे राज्यभर में चर्चित भी हो रहे.अब मनपा अधिकारियों ने आज ‘लेखनी बंद’ आंदोलन कर दिया क्योंकि मनपा नगर रचना विभाग के ADTP प्रमोद गावंडे से भाजपा विधायक प्रवीण दटके की कहा-सुनी हो गई। गावंडे इतने क्षुब्ध हो गए कि उनके समर्थन में सभी अधिकारियों सह कर्मियों ने आंदोलन कर दिया,उन्हें महापौर संदीप जोशी द्वारा माफी मांग मनाने का सिलसिला जारी हैं।

समाचार लिखे जाने तक उपस्थित अधिकारियों के अनुसार ADTP प्रमोद गावंडे को किसी मामले को लेकर विधायक प्रवीण दटके ने आवेश में आकर गाली दे दी। यह घटना की जानकारी गावंडे ने मनापायुक्त तुकाराम मुंढे को दी और कहा कि उन्हें अब मनपा में नहीं रहना। इसके बाद तय रणनीति के तहत मनपा के तमाम अधिकारी सह छुटभैय्ये कामगार नेताओं ने ‘लेखनी बंद’ आंदोलन कर दिया।इसमें मनपा के दिग्गज अधिकारी सह मुंढे समर्थक अधिकारी प्रमुखता से आंदोलन का नेतृत्व कर रहे हैं।

मामला की जानकारी महापौर संदीप जोशी मनपा आए और घटना की जानकारी लेकर ADTP गावंडे से चर्चा कर खुद महापौर जोशी ने उनसे माफी मांगी। लेकिन क्षुब्ध गावंडे नहीं माने। इसके बाद अधिकारियों और कर्मचारियों का शिष्टमंडल महापौर जोशी से मिला,महापौर लगातार उनसे मामला सहजता से समाप्त करने पर जोर दे रहे थे। दूसरी ओर इस घटना पर अधिकारियों से पूछा गया कि वे महापौर से इस संबंध में क्यों मिलने आए तो उनका कहना था कि वे मनपा के प्रमुख हैं, जबकि ये वहीं अधिकारी हैं जो महापौर जोशी के निर्देश पर कोई काम नहीं करते और जब सवाल-जवाब किया गया तो वे सीधा मनापायुक्त की ओर उंगलियां दिखाते और अपना पल्ला झाड़ लेते रहे।

मामले की तह में जाने पर पता चला कि आउटर क्षेत्र से ताल्लुक रखने वाली एक नगरसेविका स्वाति अख़तकर से एक मामले को लेकर गावंडे ने रूखा व्यवहार किया तो नगरसेविका ने यह जानकारी दटके को दी,दटके ने गावंडे से प्रथम गुजारिश की फिर उग्र हो गए फिर उन्होंने गावंडे से माफी भी मांगी लेकिन गावंडे ने उसे मुद्दा बनाकर मामला मनापायुक्त के समक्ष रखा और ‘लेखनी बंद’ आंदोलन शुरू हुई। समाचार लिखे जाने तक महापौर से अधिकारियों,कर्मचारियों से चर्चा का क्रम जारी हैं। यह भी चर्चा हैं कि महापौर-सत्तापक्ष विरोधी गुट गावंडे और उनके समर्थकों को हवा दे रहे।