Published On : Wed, Dec 3rd, 2014

सिंदेवाही : सराफा व्यापारी को लूटने वाले 4 आरोपी गिरफ्तार


42 लाख का माल जब्त

Jwellery theft
सिंदेवाही (चंद्रपुर)।  जिले के सिंदेवाही तहसील में डेढ़ वर्ष पहले अर्थात 27 जून 2013 को देलनवाड़ी गांव के सराफा व्यापारी का पीछा कर लाखों के जेवरात व नगद राशि लूटनेवाले 4 आरोपियों को सिंदेवाही व मूल पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने 4 आरोपियों से 2 किलो सोने चांदी के जेवरात व 43000 रुपये की नगद राशि ऐसा कुल 42 लाख रुपये का माल जब्त किया है.

मिली जानकारी के मुताबिक सिंदेवाही तहसील के देलनवाड़ी में सराफा व्यापारी संजय रामोजी आनंदे की सोने-चांदी के जेवरातों की दूकान है. डेढ़ वर्ष पहले 27 जुन 2013 की रात 8:30 बजे सराफा व्यापारी संजय आनंदे अपनी दूकान बंद कर घर की ओर लौट रहे थे. सराफा व्यापारी पर नजर रखे उमरेड डब्लूसीएल निवासी आरोपी सतीश ज्ञानेश्वर मते, सुमित सूर्यभान लांजेवार, स्वप्रिल वामनराव सोनबावने, निर्मल क्रिस्टफट एक्का ने मोटरसायकल से पीछा कर व्यापारी के सिर पर डंडे से वार किया. जिससे सराफा व्यापारी आनंदे बेहोश हो गए. बेहोशी के पश्चात आरोपियों ने व्यापारी से 2 किलो सोने-चांदी जेवरातों की बैग व 43 हजार रुपये नगद राशि लूटकर घटनास्थल से फरार हो गए.

घटना के पश्चात फरियादी सुखदेव आडकुजी आनंदेे ने सिंदेवाही पुलिस स्टेशन में लूटपाट की शिकायत दर्ज की. जिसके आधार पर पुलिस स्टेशन के पुलिस निरीक्षक महिपालसिंह चांदा ने घटना की जानकारी जिला पुलिस अधीक्षक राजीव जैन व अपर पुलिस अधीक्षक संजय जाधव को दी. पुलिस अधिकारीयों ने घटना को गंभीरता से लेते हुए जांच को जल्द पूरा कर आरोपियों की गिरफ्तारी के आदेश दिए. आदेश पर पुलिस विभाग ने जिले समेत राज्य में पुलिस दल को चोरी के बारे में जानकारी दी गई. उधर 4 आरोपियों ने जेवरातों को बेचने का निर्णय लेकर मुंबई के एक सराफा व्यापारी के पास जेवरात बेचने हेतु गए. संबंधित सराफा व्यापारी को आरोपियों पर संदेह होने के कारण जानकारी मुंबई पुलिस को दी. मुुंबई पुलिस ने सराफा दूकान पर पहुंचते ही 4 आरोपियों को सोने-चांदी के जेवरात समेत गिरफ्तार किया. पश्चात मुंबई पुलिस ने जिला व सिंदेवाही पुलिस को जानकारी देने पर सिंदेवाही पुलिस ने प्रोड्युस वारंट के जरिए आरोपियों को चंद्रपुर लाया. आरोपियों से पुलिस की धौंस देने पर चोरी के वारदातों को उगलना शुरू कर दिया. इस मामले में उच्च न्यायालय के नागपुर खंडपीठ के आदेश से व जिला पुलिस अधिक्षक राजीव जैन, अपर पुलिस अधीक्षक संजय जाधव के मार्गदर्शन में मुल एसडीपीओ बी.बी. मुनी सिंदेवाही पुलिस स्टेशन के पुलिस निरीक्षक अशोक साखरकर ने 42 लाख रुपये का माल संजय रामोजी आनंदे का सौंप दिया.