Published On : Mon, Dec 16th, 2019

सामाजिक क्षेत्र में महिलाओं के योगदान से समाज मजबूत होती हैं

काछी-कुशवाहा-मौर्य नवयुवक मंडल के सफल आयोजन पर प्रियदर्शिनी अभियांत्रिकी महाविद्यालय के प्राचार्य एमपी सिंह ने की हौसलाअफजाई

Advertisement

नागपुर: काछी-कुशवाहा-मौर्य समाज के युवकों द्वारा सफल आयोजन ने साबित किया कि रास्ते कभी बंद नहीं होते, निरंतर चलते रहने से मंजिलें मिला करती हैं। समाज की तरक्की में महिलाओं की भागीदारी अहम होती हैं। उक्त विचार काछी-कुशवाहा-मौर्य नवयुवक मंडल द्वारा आयोजित समाज के वार्षिकोत्सव सम्मेलन में बतौर मुख्य अतिथि प्रियदर्शिनी अभियांत्रिकी महाविद्यालय के प्राचार्य एमपी सिंह ने व्यक्त की। उन्होंने आगे कहा कि समाज से जुड़े रहना, बने रहने के लिए अकड़ की नहीं बल्कि नम्रता की जरूरत होती हैं। क्योंकि समाज ही सुख-दुख में काम और साथ आ सकता हैं।

Advertisement

Advertisement

समाज को शिक्षित करने,शिक्षा के क्षेत्र में मार्गदर्शन करने व सहयोग करने की जब जब मेरी जरूरत महसूस होगी,हमेशा अपने साथ ही पाएंगे। खासकर महिलाओं व युवतियों को आज के हिसाब से मार्केटिंग,इंटरनेट बैंकिंग आदि आदि जरूर सिखना चाहिए।

गत रविवार 15 दिसंबर को काछी-कुशवाहा-मौर्य नवयुवक मंडल द्वारा शंकर नगर चौक समीप इंडियन वॉटर वर्क के सभागृह में वार्षिक उत्सव,युवक-युवती परिचय सम्मेलन,मेधावी छात्रों का सत्कार,वरिष्ठ नागरिकों का सत्कार किया गया। कार्यक्रम का उदघाटन मस्कासाथ के मठ के महंत रामबालकदास ने दीप प्रज्वलित कर उद्धघाटन किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता उद्योगपति जयप्रकाश मौर्य ने की। बतौर मुख्य अतिथि प्रियदर्शनी अभियांत्रिकी महाविद्यालय के प्राचार्य डॉक्टर एमपी सिंह,अकोला के कुशवाहा संगठन के प्रमुख सरजू प्रसाद मौर्य उपस्थित थे।

सरजुप्रसाद मौर्य ने कहा कि केंद्र के ओबीसी के गैजेट में कुशवाहा समाज को जगह दिलवाने की सख्त जरूरत हैं। इससे समाज के भविष्य को लाभ होंगा। इनके लिए देशव्यापी शक्तिप्रदर्शन करने की जरूरत हैं, इसलिए एकजुटता ही अंतिम पर्याय हैं। समय आने पर समाज के महिलाओं को भी इस आंदोलन में साथ लेना जरूरी हैं। तब जाके केंद्र के खाकी-खादी के कानों पर जूं रेंगेगी। मंच पर उपस्थित डीएन सिंह ने समाज के तमाम नागरिकों से आव्हान किया कि कोई समाज के कामकाज में विघ्न न डाले। वैचारिक मतभेदों के मध्य सामाजिक करवा चलता रहे। समाज को हतोत्साहित करने के बजाय अपना बहुमूल्य समय देकर कार्यकर्ताओं का मनोबल ऊंचा करना,आज के समय की मांग हैं। पूर्व सैन्य अधिकारी कर्नल रामप्रभव मौर्य ने कहा कि महिलाओं सह समाज को शिक्षित करने की नितांत आवश्यकता हैं,इससे समाज तरक्की करेंगा और समाज के युवक-युवती देश के विभिन्न इकाइयों में सेवारत दिखेंगे। इसके बाद उपस्थित समाज के नन्हें बच्चों का सांस्कृतिक कार्यक्रम,मेधावी छात्रों का सत्कार,वरिष्ठ नागरिकों का सत्कार और विवाह योग्य युवक-युवती का परिचय सम्मेलन का सफल आयोजन हुआ। कार्यक्रम को सफल बनाने में समाज के युवकों ने कड़ी मेहनत की।

Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement