Published On : Wed, Jun 27th, 2018

50-50 फॉर्मूले के खिलाफ है कॉलेज, बावजूद इसके यूनिवर्सिटी प्रशासन ने कमेटी कर दी गठित

Nagpur University

नागपुर: नागपुर यूनिवर्सिटी के कुलगुरु डॉ.सिध्दार्थविनायक काणे ने निर्णय लिया था कि यूनिवर्सिटी से स्लंग्नित कॉलेजों में 50-50 फॉर्मूले के तहत परीक्षा का आयोजन हो इस पर कई सालों से बहस चल रही है. इस बार भी इसे लागू करने का निर्णय नागपुर यूनिवर्सिटी ने लिया था. कई कॉलेजों के विरोध के बाद इसको लेकर कमेटी बनाई गई है. यह कमेटी दो हफ्तों के भीतर जांच करेगी और यूनिवर्सिटी प्रशासन को रिपोर्ट सौंपेगी.

कमेटी इस बात की जांच परख करेगी कि 50-50 का फॉर्मूला कॉलेजों में लागू कर सकते हैं या नहीं. 50-50 फॉर्मूले का नागपुर यूनिवर्सिटी से स्लंग्नित कॉलेज पहले से ही विरोध करते आ रहे हैं. कुछ दिन पहले राष्ट्रसंत तुकडोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय के प्राचार्य फोरम के अध्यक्ष डॉ. बबनराव तायवाडे भी कुलगुरु से मिले थे.

उनके अनुसार इस संदर्भ में नागपुर यूनिवर्सिटी के कुलगुरु डॉ. काणे को इस 50-50 फॉर्मूले पर कुलगुरु के साथ चर्चा की थी और तायवाडे ने बताया कि उस दौरान कुलगुरु ने इस फॉर्मूले को रद्द करने की बात कही थी.

सोचनेवाली बात यह है कि जब कॉलेजों को 50-50 का फार्मूला मंजूर नहीं है तो आख़िरकार कमेटी का गठन ही क्यों किया गया. यह समझ से परे है.

इस बारे नागपुर यूनिवर्सिटी के कुलगुरु डॉ. सिध्दार्थविनायक काणे ने बताया कि 50-50 के तहत परीक्षा का आयोजन करें या न करें इसकी जांच के लिए कमेटी का गठन किया गया है. जिसकी रिपोर्ट आने के बाद ही इस विषय पर निर्णय लिया जाएगा .