Published On : Sat, Mar 3rd, 2018

गौरी लंकेश हत्याकांड में गिरफ्तार टी. नवीन कुमार को कोर्ट ने पुलिस हिरासत में भेजा

बेंगलुरू. वरिष्ठ पत्रकार और सामाजिक कार्यकर्ता गौरी लंकेश हत्या के मामले की जांच एक कदम और आगे बढ़ी है. कन्नड़ भाषा के पत्रकार की हत्या की जांच कर रहे विशेष जांच दल (एसआईटी) ने शुक्रवार को इस सिलसिले में पूछताछ के लिए एक व्यक्ति को हिरासत में लिया. इस मामले के जांच अधिकारी, पुलिस उपायुक्त (बेंगलुरू पश्चिम) एम. एन. अनुचेथ ने बताया कि टी. नवीन कुमार उर्फ होत्ते मांजा को आठ दिन के लिए हिरासत में लिया गया है. कुमार पहले ही एक अन्य मामले में न्यायिक रिमांड पर है. हालांकि उन्होंने इस संबंध में विस्तृत जानकारी देने से इनकार कर दिया.

बता दें कि पिछले वर्ष 5 सितंबर को गौरी लंकेश (55) की यहां उनके घर पर अज्ञात हमलावरों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी. हमलावरों ने राज राजेश्वरी इलाके में उनके घर के सामने ही वारदात को अंजाम दिया था. उन पर सात गोलियां दागी गईं थीं. दो गोलियां उनकी छाती में और एक माथे पर लगी. पुलिस ने बताया कि टी. नवीन कुमार को अवैध रूप से पिस्तौल की गोलियां रखने के आरोप में 19 फरवरी को गिरफ्तार किया गया था. उसके खिलाफ सशस्त्र अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया था. इससे पूर्व उसके द्वारा उपलब्ध कराई गई सूचना के आधार पर पुलिस उससे और पूछताछ करना चाहती थी और इसके लिए पुलिस ने अदालत का रुख किया था. अदालत ने उसे आठ दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया.

गृह मंत्री ने कहा था- एसआईटी के पास हैं सबूत

Advertisement

कर्नाटक के गृह मंत्री रामलिंगा रेड्डी ने लंकेश की हत्या के करीब दो महीने बाद पिछले साल दिसंबर में कहा था कि वरिष्ठ पत्रकार गौरी लंकेश के हत्यारों को कुछ हफ्तों में निश्चित रूप से पकड़ लिया जाएगा. हत्या की जांच कर रही एसआईटी के पास हमलावरों के खिलाफ सबूत हैं. रेड्डी ने कहा था, ‘गौरी के हत्यारों को सौ फीसदी पकड़ लिया जाएगा. यह कुछ हफ्तों में होगा.’ हालांकि उन्होंने स्पष्ट किया कि इसका मतलब एक या दो हफ्ता नहीं है. यह कुछ हफ्तों में होगा. बता दें कि पत्रकार गौरी लंकेश कन्नड़ टैबलॉयड ‘गौरी लंकेश पत्रिका’ का संपादन करती थीं. इसके अलावा कुछ दूसरे प्रकाशन की भी मालकिन थीं. लंकेश पर भाजपा के नेताओं के खिलाफ एक रिपोर्ट प्रकाशित करने को लेकर मानहानि का मुकदमा दायर किया गया था. नवंबर 2016 में इस मामले में उन्हें छह माह जेल की सजा हुई थी.

Advertisement

नवीन कुमार के कट्टरपंथी संगठनों से संबंध का शक

स्थानीय मीडिया में छपी खबरों के मुताबिक एसआईटी द्वारा हिरासत में लिए गए टी. नवीन कुमार उर्फ होत्ते मांजा के कट्टरपंथी संगठनों के साथ नजदीकी ताल्लुकात रहे हैं. पत्रकार गौरी लंकेश कट्टरपंथियों के खिलाफ अपने लेखन के कारण ही चर्चित रही हैं. उनकी हत्या के मामले की जांच को लेकर कर्नाटक पुलिस ने दो संदिग्ध व्यक्तियों के स्केच भी जारी किए थे. साथ ही आम जनता से हत्या आरोपियों की पहचान में सहायता करने की अपील की थी. बताया गया कि गौरी लंकेश की हत्या के बाद हेलमेट पहने एक व्यक्ति का फुटेज सीसीटीवी कैमरे में दर्ज हुआ था. पुलिस ने हत्या आरोपियों की पहचान बताने वाले को 10 लाख रुपए का इनाम देने की भी घोषणा कर रखी है.

Advertisement

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement