Published On : Thu, May 10th, 2018

एक्सप्रेसवे का उद्धाटन नहीं होने से नाराज SC, कहा- PM के पास वक्त नहीं तो शुरू करें आवाजाही

Mumbai-Nagpur Express Way

नई दिल्ली: कुंडली से पलवल तक गाजियाबाद के रास्ते जाने वाला 135 किलो मीटर लंबा ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे कई बार अपनी उद्घाटन की डेट मिस कर चुका है। इसकी वजह हर बार प्रधानमंत्री की व्यस्तता बनती है। इससे नाराज सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को कड़े शब्दों में आदेश दे दिया है कि जल्द से जल्द इसका उद्घाटन करें।

सुप्रीम कोर्ट ने इस रूट से जाने वाले लोगों की परेशानी को देखते हुए आदेश दिया है कि 31 मई तक पीएम नरेंद्र मोदी इसका उद्घाटन कर दें। इसके बाद पीएम ईस्टर्न पेरिफेरल का उद्घाटन करें ना करें 1 जून से इसे जनता के लिए खोल दिया जाएगा। सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश से साफ है कि इस एक्सप्रेसवे पर 1 जून से हर हाल में वाहन फर्रांटा भरने लगेंगे, चाहे उद्घाटन हो या ना हो।

आखिर इस एक्सप्रेसवे में ऐसा क्या है जो सुप्रीम कोर्ट भी इसके शुरू होने को लेकर इतना गंभीर है।

70 मिनट में 135 किलोमीटर की यात्रा
ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे के बन जाने से इस रूट पर बसे इलाकों की दूरियां काफी घट गई हैं। अब इस रूट पर आपको जाम और प्रदूषण का सामना नहीं करना पड़ेगा। कुंडली से पलवल तक आप ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे के जरिए केवल 70 मिनट में पहुंच जाएंगे।

29 अप्रैल को इसका उद्घाटन होने वाला था लेकिन इसकी तारीख बढ़ा दी गई है। इससे पहले भी इसकी उद्घाटन की तारीख को आगे बढ़ाया गया था। ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे पर सात इंटरचेंज मौजूद हैं जिससे अब आप एक से दूसरे शहर तक आसानी से जा सकेंगे। आइए जानते हैं वो सात इंटरचेंज कौन-कौन से हैं..

1) कुंडली-मावीं कला
कुंडली से बिसवा मिल जाने के लिए 18 किलो मीटर की दूरी तय करनी पड़ती है। फिर वहां से बागपत तक 18 किलोमीटर जाना पड़ता है। इसमें पूरा एक घंटा लग जाता है। जब ईस्टर्न पेरिफेरल शुरू हो जाएगा तो इसकी दूरी 15 किलोमीटर हो जाएगी। इस सफर को तय करने के लिए मात्र 10 मिनट का समय लगेगा।

2) मावीं कला-दुहाई
अगर बागपत से लोनी होते हुए गाजियाबाद आते हैं ये दूरी करीब 45 किलोमीटर की है। जाम और खराब सड़कों के कारण बागपत से गाजियाबाद पहुंचने में ही लगभग 3 घंटे तक लग जाते हैं। अब मावीं कला से दुहाई स्थित इंटरचेंज तक की दूरी लगभग 15 किलोमीटर कम हो गई है। यह सफर मात्र 20 मिनट में आप पूरा कर लेंगे।

3) दुहाई-डासना
ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे पर दुहाई से डासना के बीच मात्र 8 किलोमीटर की दूरी है। एनएच-24 वाले इस मार्ग से आप पलवल की तरफ या कुंडली की तरफ जा पाएंगे। अभी इन दोनों रास्तों पर जाने के लिए गाजियाबाद के बीच से होकर जाना पड़ता है। नोएडा वालों को भी यह पॉइंट सबसे पास होगा।

4) डासना-बील अकबरपुर
डासना और बील अकबरपुर के बीच की दूरी करीब 19 किलोमीटर है। इससे बुलंदशहर-सिकंदराबाद की ओर से आने-जाने वाले लोग ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे का प्रयोग कर सकते हैं। दादरी, सिकंदराबाद, बुलंदशहर से आने वालों के लिए यह आसान होगा।

5) यमुना एक्सप्रेसवे-मोहना
यमुना एक्सप्रेसवे के प्रस्तावित इंटरचेंज के बाद अगला पड़ाव मोहना के पास बनाया है। इन दोनों के बीच की दूरी लगभग 17 किलोमीटर है। इस इंटरचेंज से आपको फरीदाबाद, तिगांव, बल्लभगढ़ तक पहुंचना बेहद आसान होगा। इसी प्रकार कुंडली से लेकर गाजियाबाद के रास्ते पलवल तक लगभग 135 किमी तक के मार्ग में कुल 7 इंटरचेंज मिलेंगे।

6) रामपुर-फतेहपुर से यमुना एक्सप्रेसवे
रामपुर-फतेहपुर से यमुना एक्सप्रेसवे के बीच की दूरी 7 किलोमीटर है। यमुना एक्सप्रेसवे पर इंटरचेंज पहले इस प्लान में शुमार नहीं था। अब उत्तर प्रदेश सरकार ने इसे जरूरी समझते हुए यमुना एक्सप्रेसवे को इससे जोड़ने का प्रस्ताव तैयार किया है।

7) बील अकबरपुर-रामपुर-फतेहपुर
यह इंटरचेंज जीटी रोड-ग्रेटर नोएडा की ओर आते वक्त 12 किलोमीटर का सफर तय करने पर होगा। इसका प्रयोग ग्रेटर नोएडा आने वाले सभी गाड़ियां कर सकेंगी। इतना ही नहीं जिन वाहनों को यमुना एक्सप्रेसवे पर जाना है वह भी इसका इस्तेमाल कर सकेंगी।