Published On : Wed, Nov 13th, 2019

सर्वोच्च न्यायालय के फैसले से सूचना का अधिकार कानून और मजबूत होगा : नवीन अग्रवाल

Advertisement

नागपुर: सूचना का अधिकार संबंधी मामले में एक अहम फैसला लेते हुए सर्वोच्च न्यायालय ने सर्वोच्च न्यायालय को भी एक सार्वजनिक प्राधिकरण माना जिसके तहत अब भारत के मुख्य न्यायाधीश का कार्यालय भी सूचना का अधिकार कानून के दायरे में आ गया है।

सर्वोच्च न्यायालय द्वारा लिए गए इस निर्णय का स्वागत करते हुए दादा रामचंद बाखरू सिंधु महाविद्यालय के रजिस्ट्रार एवं सूचना अधिकार केंद्र, यशदा, पुणे के अतिथी व्याख्याता श्री नवीन महेशकुमार अग्रवाल ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के इस निर्णय से सूचना का अधिकार कानून को और मजबूती मिलेगी।

Advertisement
Advertisement

सर्वोच्च न्यायालय के फैसले ने एक बार फिर स्पष्ट कर दिया कि कानून से ऊपर कोई भी नहीं हैं, स्वयं सर्वोच्च न्यायालय भी नहीं।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement