Published On : Wed, May 31st, 2017

अनियमित्ताओं के विरोध में विद्यार्थियों का प्रदर्शन

Students Andolan
नागपुर:
राष्ट्रसंत तुकडोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय में हो रही अनियमित्ताओं के विरोध में डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर विद्यार्थी संघटना की ओर से करीब 200 विद्यार्थियों ने विश्वविद्यालय परिसर में धरना आंदोलन किया. विद्यार्थियों का कहना है कि अमरावती रोड स्थित महात्मा ज्योतिबा फुले शैक्षणिक परिसर (कैंपस ) में फार्मसी बायोलॉजी विभाग में घातक रसायन ,रासायनिक प्रयोगों के साथ मृत प्राणी के अवयवों को उचित प्रकार से नष्ट करने का कोई भी प्रबंध नहीं है. उन अवयवों को खुले में फैंका जाता है. जिस वजह से विद्यार्थियों के साथ ही अध्यापकों के स्वास्थ को भी खतरा है.

लेकिन इस परेशानी की तरफ विश्वविद्यालय प्रशासन ध्यान नहीं दे रहा है. विश्वविद्यालय द्वारा आचार्य पदवी के प्रवेश के लिए दो परीक्षा देने के बाद और पास होने के बाद भी अनेक पी.एच.डी. स्टडी सेंटर में गाइड नहीं होने पर भी मान्यता दी गई है .लेकिन विद्यार्थियों को गाइड उपलब्ध कराकर नहीं दिया गया. विद्यार्थियों ने मांग की है कि विद्यार्थियों को गाइड उपलब्ध कराए जाएं.

साथ ही अन्य मांगो में विश्वविद्यालय में लाइब्रेरी का समय विद्यार्थियों के लिए 24 घंटे किया जाए ना कि प्रशाकिय समयानुसार. विद्यार्थियों के लिए स्पर्धा परीक्षा की तैयारी करने के लिए शासन द्वारा दी गई बार्टी के साथ अन्य योजनाएं भी बंद की गई हैं. विद्यार्थियों का कहना है कि नागपुर विश्वविद्यालय की ओर से केवल डिग्री देने का ही कार्य किया जा रहा है. जिसे विद्यार्थियों ने मांग की है कि जल्द से जल्द स्पर्धा परीक्षा व रोजगार निर्माण, स्वयंरोजगार केंद्र शुरू किया जाए. विश्वविद्यालय में आनेवाले सभी अन्य विभागों में सुरक्षा रक्षक लगाए गए हैं.

पिछले तीन वर्षो में इन गार्ड्स पर कितनी निधि खर्च की गई है इसके ब्यौरे की भी मांग की गई है. इन मांगो का निवेदन कुलगुरु डॉ. सिध्दार्थविनायक काणे को दिया गया है. कुल मिलाकर विद्यार्थियों ने कुलगुरु के सामने 18 मांगो को रखा है.

इस आंदोलन में डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर विद्यार्थी संगठन के अध्यक्ष स्नेहल वाघमारे, सचिव भूषण वाघमारे, संगठन के कार्यकारी अध्यक्ष अश्विन मेश्राम, कोषाध्यक्ष शैलेश सहारे समेत सैकड़ों की तादाद में विद्यार्थी मौजूद थे.