Published On : Mon, Sep 7th, 2020

मनपा के पांच कोविड अस्पतालों के लिए हो रही नियुक्तियां रोके

नागपुर – नागपुर महानगर पालिका द्वारा पांच समर्पित कोविड अस्पतालों में कुछ स्वास्थ्य कर्मचारियों की नियुक्ति की जाने वाली है। नियुक्तियों में विशेषज्ञों (11 पद), चिकित्सा अधिकारीयों (37 पद), अस्पताल प्रबंधकों (5 पद), स्टाफ नर्स (115), X-रे तकनीशियन (5 पद), ECG तकनीशियन (5 पद), डाटा एंट्री ऑपरेटर (10), वार्ड बॉयज (30) की जाने वाली है।

यह नियुक्तिया अस्थाई स्वरुप की होगी,जिन्हें अच्छा खासा मानधन दिया जाने वाला है। जबकी ये पांचों अस्पताल मनपा के पुराने अस्पताल है और अस्थापना सूची के मुताबिक इन अस्पतालों में चिकित्सको से लेकर तो सफाई कामगारों के मंजूर पद है। अतः इन अस्पतालों में पहले से ही अलग- अलग पदों पर लोग नियुक्त किये जा चुके है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार कई मंजूर पद रिक्त हो सकते हैं। इस रिक्त पदों पर अविलंब नियुक्तियाँ की जानी चाहिए। कोविड नाम का कोई अस्पताल नहीं होता है उल्ट अस्पताल में कोविड का इलाज होता है। वैसे देखा जाय तो कोविड की कोई दवाई तो है नहीं और जहां तक इलाज़ करने का सवाल वह बहुत सरल इलाज है, जिसके लिए कोई अलग से विशेषज्ञों या मनुष्य बल की आवश्यकता नहीं है। अलग से नियुक्ति कर नागपुर महानगर पालिका गलत सन्देश देना चाह रही हैं कि नियमित मनपा के चिकित्सक कोविड मरीजों का इलाज़ नहीं करना चाहते हैं जो पद स्वास्थ्य विभाग या फिर अस्पतालों में अस्तित्व में नहीं है और इसके बावजूद कोई विशेषज्ञों की आवश्यकता हो तो ऐसे लोगों की अस्थायी नियुक्ति की जा सकती है।

मंजूर रिक्त पदों पर अस्थाई स्वास्थ्य कर्मी को समाहित करें
नागपुर महानगर पालिका के स्वास्थ्य विभाग में स्वच्छता निरीक्षक एवं एम. एस. डब्लू / एस.एफ.डब्लू / इन्सेक्ट कलेक्टर के मंजूर रिक्त पदों पर क्षयरोग आरोग्य कर्मियों का समायोजन किया जाय और उसी प्रकार से तमाम दवाखानों की रिक्त मंजूर पदें जैसे की पब्लिक हेल्थ नर्स, सिस्टर, नर्स मिडवाईफ, नर्स / परिचारिक, प्रयोगशाला तंत्रज्ञ, प्रयोगशाला सहाय्यक, अटेंडेंट, अकाउंटेंट आदि पदों पर राष्ट्रीय शहरी प्राथमिक आरोग्य केन्द्रों एवं हेल्थ पोस्ट में कार्यरत स्वास्थ्य कर्मियों का समायोजन किया जाएं, पिछले कुछ वर्षो से क्षयरोग निर्मूलन कार्यक्रम को राष्ट्रीय शहरी आरोग्य मिशन में ही विलय कर दिया गया है। क्षयरोग निर्मूलन में कार्यरत अस्थायी कर्मचारियों की शैक्षणिक पात्रता स्वछता निरीक्षक एवं कनिष्ट निरीक्षक के पद को लगने वाली शैक्षणिक पात्रता से ज्यादा है। पिचले 20 वर्षो से अस्थायी रूप से लोग कार्यरत है, अतः कोरोना महामारी के काल में और उसका बढता हुआ प्रभाव को ध्यान में रखते हुए मनपा के स्वास्थ्य विभाग के लिए मंजूर रिक्त पदों को शहरी आरोग्य मिशन में कार्यरत अनुभवी मनुष्यबल का समायोजन किया जाय। अस्थाई स्वास्थ्य कर्मियों की वरिष्ठता सूची जारी करने की मांग

राष्ट्रीय शहरी स्वास्थ्य मिशन के तहत जितने भी शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों तथा हेल्थ पोस्ट में कार्यरत सभी अस्थायी स्वास्थ्य कर्मियों का पदनाम अनुसार वरिष्टता यादी को जारी किया जाय।