Published On : Tue, Jan 8th, 2019

मेट्रो की पहुँच जिले के ग्रामीण भाग तक,दूसरे चरण को राज्य कैबिनेट की मंजूरी,48 किलोमीटर का विस्तार

नागपुर : नागपुर मेट्रो की पहुँच अब जिले के ग्रामीण इलाकों तक भी पहुँच गयी है। मंगलवार को राज्य कैबिनेट ने नागपुर मेट्रो के दूसरे चरण को मान्यता दे दी है। इस फैसले के बाद मेट्रो का दायरा बढ़कर 86 किलोमीटर तक हो जायेगा ,राज्य मंत्रिमंडल की मंजूरी मिलने के बाद प्रस्ताव को केंद्र सरकार के पास भेजा जायेगा। इस फैसले पर महा मेट्रो के प्रबंध निदेशक बृजेश दीक्षित ने ख़ुशी जाहिर करते हुए कहाँ कि नागपुर के समकक्ष जिन शहरों में मेट्रो रेल परियोजनाएँ शुरू हुई। उनमे से नागपुर ने प्रगति की है।

दूसरे चरण की मंजूरी परियोजना के 70 फ़ीसदी पूरी हो जाने के बाद प्राप्त होती है नागपुर मेट्रो का 75 फीसदी काम हो चुका है। जिस दिशा से काम शुरू है उन्होंने उम्मीद जताई की वर्ष 2019 के मध्य से दूसरे चरण का काम भी शुरू हो जायेगा। वर्तमान में 8680 करोड़ रूपए की लागत से 38 किलोमीटर लंबी परियोजना शुरू है। दूसरे चरण की अनुमानित लागत 11216 करोड़ है अगर इसे केंद्र की मंजूरी मिल जाती है तो परियोजना की कुल लागत 19 हजार 896 करोड़ रूपए की हो जायेगी। मेट्रो के दूसरे चरण में वर्तमान में शुरू पहले चरण के अंतिम स्टेशनों के रूट से परियोजना को विस्तारित किया गया है।

दूसरे चरण में मेट्रो का विस्तार
-ऑटोमोटिव चौक से कन्हान,13 किलोमीटर का रूट 12 स्टेशन
-मिहान से बुटीबोरी एमआयडीसी,18.5 किलोमीटर का रूट,10 स्टेशन
-प्रजापति नगर से ट्रांसपोर्ट नगर,5.6 किलोमीटर रूट,3 स्टेशन
-लोकमान्य नगर से हिंगना,6.7 किलोमीटर रूट 7 स्टेशन
-वासुदेव नगर से वाड़ी,4.5 किलोमीटर रूट,3 स्टेशन

फेज 2 से मेट्रो का 48.3 किलोमीटर विस्तार होगा जिसमे 35 स्टेशन समाहित है। 2011 की नागपुर जिले की जनसँख्या के आधार पर मेट्रो जिले के 29.39 लाख लोगों के दायरे में पहुँच जायेगी। दो महीने पहले महा मेट्रो के नागपुर परियोजना के लिए रेल इंडिया टेक्नीकल एंड इकनोमिक सर्वे (राइट्स) को डीपीआर जमा कराया था। यही रिपोर्ट राज्य सरकार के पास मंजूरी के लिए भेजी गई थी। राज्य सरकार की मंजूरी के बाद अब प्रस्ताव को सबसे पहले परियोजना से जुड़े नोडल मंत्रालय आवास एवं शहरी विकास मंत्रालय के पास भेजा जायेगा। यहाँ से यह वित्त मंत्रालय जायेगी।

वित्त मंत्रालय में प्रोजेक्ट को पब्लिक इंट्रेस्ट इन्वेस्टमेंट बोर्ड के पास भेजा जायेगा। जहाँ से मंजूरी मिलने के बाद केंद्र सरकार की कैबिनेट इसे मंजूरी देगी। दीक्षित ने बताया कि नागपुर मेट्रो कन्हान से बुटीबोरी ऐसे 52 किलोमीटर लंबे दायरे को जोड़ेगी जो अपने आप में बड़ी बात है। उनके मुताबिक फेज 1 से फेज 2 सस्ता होगा क्यूँकि इसके लिए जमीन का अधिग्रहण नहीं करना होगा साथ ही विस्तारित मार्ग को वर्तमान में बनाये गए ऑपरेशन कंट्रोल सिस्टम से ही जोड़ा जायेगा। दूसरे चरण में भी इलेक्ट्रिसिटी का साठ फीसदी हिस्सा सोलर एनर्जी के माध्यम से ही नागपुर मेट्रो खुद उत्पादित करेगी।

दीक्षित ने और क्या कहाँ
-ब्रॉडग्रेज मेट्रो के लिए डीपीआर तैयार मंजूरी के लिए रेल मंत्रालय को भेजा जायेगा। ब्रॉडग्रेज मेट्रो के माध्यम से वर्धा,काटोल,रामटेक,भंडरा को मेट्रो के माध्यम से जोड़ा जायेगा। रेल द्वारा फ़िलहाल इस्तेमाल की जा रही पटरियों पर 120 किलोमीटर की रफ़्तार से ट्रेन चलेगी। इस प्रोजेक्ट के लिए फंड जुटाने का काम शुरू है। प्रोजेक्ट की लागत 300 करोड़ की होगी। 6-6 डिब्बों की 8 ट्रेन ब्रॉडग्रेज मेट्रो परियोजना के तहत चलेगी। ब्रॉडग्रेज मेट्रो को मेट्रो के खापरी और अजनी स्टेशन से कनेक्ट किया जायेगा।

-ज़ीरो माईल स्टेशन से सटकर एक और टॉवर बनेगा। जिसे विधानभवन एनेक्सी नाम दिया जायेगा।
-दीक्षित ने बताया कि नागपुर मेट्रो प्रॉपर्टी डेवलपमेंट की दिशा में बढ़ते हुए जल्द ही ऑटोमोटिव स्टेशन शंकरनगर स्टेशन में व्यावसायिक जगह बेचने के लिए एमओयू साइन किया जाने वाला है।