Published On : Mon, Nov 25th, 2019

अपारंपारिक ऊर्जा का उष्ण मौसम के अनुकूल महा मेट्रो कर रहा उपयोग

सौर ऊर्जा से प्रतिमाह ६ लाख रुपये की हो रही बचत

६५ प्रतिशत सौर ऊर्जा का होगा उपयोग

नागपूर: महा मेट्रो की नागपूर मेट्रो रेल परियोजना के खर्च मे कटौती करने के उद्देश से योजना के प्रारंभ से ही सौर ऊर्जा का उपयोग करने का प्रावधान किया गया. मेट्रो प्रशासन ने ६५ प्रतिशत सौर ऊर्जा का उपयोग करने लक्ष लेकर स्टेशन, डेपो तथा सभी संभावित स्थानो पर सौर ऊर्जा के पॅनल लगाये जा रहे है. सौर ऊर्जा के फिलहाल हो रहे उपयोग से ६ लाख रुपये प्रतिमाह की बचत बिजली के मामले मे की जा रही है. शिग्र ही यह बचत करीब २१ लाख रुपये प्रतिमाह की बचत होने की दिशा मे तेजी से कार्य किये जा रहे है.

अधिकांश स्थानो पर सौर ऊर्जा का ही उपयोग किये जाने से महावितरण से मिलने वाली बिजली की तुलना मे सौर ऊर्जा की बिजली कम खर्च मे उपलब्ध हो रही है. महा मेट्रो की रहा ओर से २,३३३ सौर ऊर्जा के पॅनल भवन और मेट्रो स्टेशनो पर लगाये गये है, ईन से प्रतिमाह ९०,००० युनिट बिजली का उत्पादन हो रहा है. ७५८ किलो वॉट का बिजली उत्पादन होने से मेट्रो को ६ लाख रुपये प्रतिमाह की बचत हो रही है.

सौर ऊर्जा का उत्पादन बढाने के लिये ६,१५३ सौर ऊर्जा पॅनल ल गाने का काम किया जा रहा है. कुल मिलाकर तकरीबन ८,५०० सौर ऊर्जा पॅनल होने पर ३,३०,००० युनिट बिजली का उत्पादन प्रतिमाह होगा और करीब २१ लाख रुपये प्रतिमाह की बचत महा मेट्रो को होगी. उल्लेखनीय है की, अपारंपारिक ऊर्जा शहर के वातावरण के अनुकूल होने से महा मेट्रोने इसे आत्मसात कर बिजली के खर्च मे बचत करने का निर्णय लिया और उसमे आर्थिक बचत होने लगी है.