Published On : Thu, Mar 12th, 2015

धारणी : पानी के लिए शोले आंदोलन


कलमखार में वीरुगिरी

-viru
धारणी (अमरावती)। एक वर्ष से नई जलापूर्ति योजना पूरी हो जाने के बावजूद तहसील में प्रत्यक्ष रुप से जलापूर्ति शुरु नहीं हो रही. जिससे ऐन होली के समय कलमखार गांव में पानी के लिए हाहाकार मच गया. ऐसे में बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने यहां की पानी की टाकी पर चढक़र वीरुगिरी आंदोलन किया. तुरंत जलापूर्ति योजना के तहत गांव में पर्याप्त पानी सप्लाइ शुरू करने की मांग की. इन युवकों के आक्रमक तेवरों के चलते ग्रामीण जलापूर्ति अधिकारी सुर्यवंशी, पुलिस निरीक्षक शेलके ने घटनास्थल पर पहुंचकर आंदोलनकारियों को आश्वासन दिया. तब जाकर यह युवक टाकी से नीचे उतरे.

89 लाख रुपये खर्च
धारणी से 7 किमी दूर स्थित कलमखार में नई जलापूर्ति योजना पर 89 लाख रुपये खर्च किये है. यह निर्माण कार्य धारणी के जलापूर्ति विभाग, ग्रामपंचायत व स्थानीय समिति के माध्यम से किया गया, लेकिन इस काम में बड़े पैमाने पर त्रृटियां होने के चलते यह योजना अब तक धरी की धरी है. गलत तरीके से लेआऊट और घटिया दर्जे की सामग्री इस्तेमाल करने के चलते योजना बंद रखी गई है.

होली के रंग हुये फिके
वहीं दूसरी ओर इन दिनों कलमखार और आस-पास के ग्रामीण क्षेत्रों में जलसंकट से जूझ रहे आदिवासियों में कोहराम बढ़ता जा रहा है. होली आदिवासियों का प्रमुख त्यौहार माना जाता है.आदिवासी सप्ताहभर उत्साह के साथ होली मनाते है, लेकिन जलाभाव के चलते इन गांववासियों की होली के रंग फिके पड़ गये. ऐसे में बजरंग दल के आप्पा पाटिल के नेतृत्व में संबंधित विभाग को लिखित शिकायत भेजी गई. लेकिन इस शिकायत पर भी ध्यान नहीं दिये जाने से युवकों ने विरुगीरी आंदोलन किया.

ठेकेदार को आपूर्ति की नोटिस
आंदोलन की आक्रमकता को देखते हुये जलआपूर्ति अधिकारी सुर्यवंशी ने तुरंत आंदोलनकारियों को भेंट दी. साथ ही पुलिस निरीक्षक किशोर शेलके, खंड विकास अधिकारी गावडे, लक्ष्मिकांत पाटिल आदि ने समझा-बुझाकर इन युवकों को नीचे उतारा. उनसे विस्तृत चर्चा कर आपूर्ति विभाग को इन गांवों में तुरंत जलापूर्ति करने के आदेश संबंधित ठेकेदार को देने की नोटिस दी. टाकी पर चढऩे वालों में आशिष यादव, आप्पा पाटील, अमोल सेदाने, स्वप्निल मालवीय, शुभम राठोड, प्रणव बिलवे, अर्पित राठोड, राहुल राठोड, दुर्गेश बुंदिले, शरद यादव, प्रितेश फुलमाली, हरिओम फुलमाली, निलेश बाविस्कर, सुरेश चौबिसे, प्रमोद कानडे, संजय कोल्हे, अरविंद हारवे, अजय जक्से, आलु पुसराम, शशांक राठोड आदि का समावेश रहा.