Published On : Mon, Aug 29th, 2016

उत्तर प्रदेश में भाजपा का जनाधार बढ़ाने के लिए आरएसएस का संघं शरणं गच्छामि

Advertisement

Sangh Buddham Dr. Mohan Bhagwat
नागपुर:
अगले वर्ष उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी को फिर सत्तासीन करने के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ एड़ी-चोटी का जोर लगा रही है। इसी क्रम में हाल ही आरएसएस सरसंघचालक मोहन भागवत ने नागपुर के रेशिमबाग स्थित हेडगेवार स्मृति भवन में उत्तर प्रदेश के प्रमुख बौद्ध भिक्षुओं से भेंट की। मोहन भागवत और भंते शीलरक्षित सहित अन्य भंते जनों के भेंट का छायाचित्र सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है। बताया जाता है कि इस भेंट में भंते शीलरक्षित ने उत्तर प्रदेश चुनाव में भाजपा के वोट प्रतिशत में बहुजन समाज के दस प्रतिशत वोट का इजाफा कराने का आश्वासन मोहन भागवत को दिया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार उत्तर प्रदेश सहित समूचे उत्तर भारत में बौद्ध समाज में प्रतिष्ठित भंते शीलरक्षित इन दिनों ‘धम्म यात्रा’ पर हैं। अपने यात्रा के एक पड़ाव में वह अपने साथियों के साथ नागपुर पहुँचे। यहाँ पहुँचकर उन्होंने हेडगेवार स्मृति भवन देखने की मंशा व्यक्त की। स्थानीय संपर्क के जरिए वह अपने साथी भंते जनों के साथ हेडगेवार स्मृति भवन पहुँचकर आरएसएस के सरसंघचालक मोहन भागवत से मिले।

लगभग आधे घंटे की इस भेंट में भंते शीलरक्षित को देखते ही मोहन भागवत ने आधा झुककर उन्हें प्रणाम किया। भंते गण ने आशीष पाठ किया। भंते शीलरक्षित ने पीठपर हाथ फेरकर मोहन भागवत को यशस्वी होने और दीर्घायु का आशीर्वाद दिया।

Advertisement
Advertisement

बांग्लादेश में हो रहे बौद्ध मतावलंबियों पर हमले की जानकारी भंते शीलरक्षित ने मोहन भागवत को दी और इन हमलों को रोके जाने के लिए सहायता मांगी। मोहन भागवत ने केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह एवं भारतीय जनता पार्टी के केंद्रीय अध्यक्ष अमित शाह से इस मसले पर बात कर हल निकालने का आश्वासन दिया।

आश्वासन से हर्षित भंते शीलरक्षित ने मोहन भागवत को आश्वस्त किया कि वह अपने प्रयासों से भाजपा को आगामी उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों में कम से कम दस प्रतिशत वोट बसपा के खाते से दिलाएंगे।

भंते शीलरक्षित इनदिनों देश में ‘धम्म यात्रा’ के जरिए बौद्ध धम्म के प्रति जनजागरण कर रहे हैं। उनके साथ सिक्किम के एक युवा व्यवसायी भी इस यात्रा में सहभागी हैं।

गौरतलब है कि इनदिनों हेडगेवार स्मृति भवन में जहाँ मोहन भागवत बैठते हैं, वहाँ गौतम बुद्ध की शयन मुद्रा में प्रतिमा रखी हुई है और डॉक्टर बाबासाहब भीमराव आंबेडकर की एक तस्वीर भी।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement