Published On : Thu, Dec 27th, 2018

ट्रेन में छूटा 40 हजार रुपए का लैपटॉप यात्री को लौटाकर आरपीएफ, यात्री सहायक, कुली ने दिया ईमानदारी का परिचय

नागपुर: नागपुर में गुरुवार को आरपीएफ की टीम और यात्री सहायक, कुली की सतर्कता और ईमानदारी के चलते ट्रेन में छूटा 40 हजार रुपए का लैपटॉप यात्री को वापस लौटाया. जानकारी के अनुसार गुरुवार को काम के दौरान यात्री सहायक राहूल देवानंद टेम्भूर्णे द्वारा प्लेटफार्म नं.2 के मुम्बई छोर की ओर बने पानी के नल के पास एक बैग लावारिस हालत में दिखाई दिया.

यात्री सहायक द्वारा उस बैग के संबंध में आस-पास के यात्रियो से पुछताछ करने पर किसी भी यात्री ने बैग पर अपना मालिकाना हक नही जताया. जिस पर यात्री सहायक राहूल देवानंद टेम्भूणे, संगठन के अध्यक्ष अब्दुल मजिद जउर खान तथा यात्री सहायक ज्ञानेश्वर पाटील द्वारा बैग को साथ लेकर आरपीएफ थाना नागपुर आये. जहाॅ उनके द्वारा आरपीएफ थाना नागपुर में उपस्थित वरिष्ठ मंडल सुरक्षा आयुक्त ज्योति कुमार सतीजा महोदय को इसकी जानकारी दी गई.

उनके द्वारा उप निरीक्षक गौरीशंकर एडले को तुरंत कार्रवाई कर उस बैग के मालिक के संबंध में जानकारी हासिल करने हेतू बताया गया. जिस पर उपनिरीक्षक द्वारा बैग को खोलकर देखने पर उसके अंदर एक डेल कम्पनी का लैपटाॅप तथा ग्राफिक पैड पाया गया. उपनिरीक्षक द्वारा लैपटाॅप को चालू करने पर एक फोल्डर में एक मोबाईल नम्बर लिखा पाया गया.

जिस पर फोन करने पर दूसरी ओर से अपना नाम रिषभ हेमचंद भंडारी जलगाॅव बताया गया साथ ही यात्री ने यह भी बताया कि वह जयपुर – मैसुर एक्सप्रेस में नागपुर से हैद्राबाद यात्रा कर रहा है तथा उसका एक लैपटाॅप वाला बैग जिसके अंदर एक डेल कम्पनी का लैपटाॅप तथा ग्राफिक पैड जिसकी कुल कीमत 40000/- रुपये कही छूट गया है. उपनिरीक्षक द्वारा बैग आरपीएफ नागपुर के पास सुरक्षित होने की सुचना मिलने पर यात्री द्वारा बताया गया कि, वह अगले स्टेशन पर उतर कर नागपुर वापस आ रहा है .

उसके बाद बैग का मालिक आरपीएफ थाना नागपुर में उपस्थित हुआ तथा अपने बैग को लेने के लिए निवेदन किया. इसके बाद निरीक्षक वी.एन.वानखेडे के आदेशानुसार उपनिरीक्षक गौरीशंकर एडले द्वारा यात्री द्वारा पेश किए गए कागजातो की पुष्टि कर वरिष्ठ मंडल सुरक्षा आयुक्त की मौजूदगी में लैपटाॅप तथा ग्राफिक पैड यात्री को लौटाया गया. आरपीएफ नागपुर मंडल द्वारा ’’ यात्रीयो की हर सम्भव सहायता करने की परम्परा को कायम रखते हुये अपने बैग को लेने नागपुर आये यात्री की ट्रेन छूटने के कारण आरपीएफ द्वारा उपलब्ध ट्रेन में बैठा कर यात्री को हैद्राबाद रवाना किया गया.