Published On : Mon, Nov 26th, 2018

सड़क विकास के नये रास्ते खुलेंगे

नागपुर: आरेंज सिटी में आयोजित 4 दिवसीय इंडियन रोड कांग्रेस का समापन हुआ. अंतिम दिन कौंसिल की बैठक में सोसाइटी के प्रतिनिधियों का चुनाव किया गया. इसमें महाराष्ट्र के प्रतिनिधि के रूप में प्रकाश इंगोले 483 वोट के साथ चुने गए. सम्मेलन में देश-विदेश से करीब 3000 प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया. 11 तकनीक सत्र का आयोजन हुआ. निर्माण कार्य के संदर्भ में 33 टेक्निकल पेपर रखे गए. आईआरसी के जर्नल में प्रकाशित 16 रिसर्च पेपरों का प्रेजेंटेशन व चर्चा हुई.

पीडब्ल्यूडी विभाग के नागपुर के मुख्य अभियंता व आयोजन समिति के अध्यक्ष उल्हास देबडवार व सचिव रमेश होतवानी ने सम्मेलन की सफलता के लिए सभी वरिष्ठ अधिकारियों व कर्मचारियों के विशेष सहयोग के लिए आभार व्यक्त किया. अंतिम दिन वन व वित्त मंत्री सुधीर मुनगंटीवार भी सम्मेलन में पहुंचे. उन्होंने प्रदर्शनी का जायजा लिया. उन्होंने कहा कि नागपुर में सम्पन्न हुए आईआरसी के चलते देश में सड़क विकास के नये रास्ते खुलेंगे. मुनगंटीवार ने पूरे मानकापुर स्टेडियम परिसर में ई-रिक्शा से चक्कर लगाया. उनके साथ सचिव (सड़क) चंद्रशेखर जोशी, मुख्य अभियंता उल्हास देबडवार, अधिक्षक अभियंता व स्थानीय आयोजन समिति सचिव रमेश होतवानी उपस्थित थे.

उद्देश्य हुआ सफल
देबडवार ने कहा कि पीडब्ल्यूडी विभाग को अधिवेशन आयोजन की जिम्मेदारी मिली थी. अधिवेशन में सडक निर्माण की आधुनिक व नई-नई तकनीकों, रोड सेफ्टी, ब्रिज, फ्लाईओवर, डबलडेकर ब्रिजेस, टनल, सीमेन्ट रोड निर्माण की नई तकनीक आदि विविध विषयों पर प्रेजेंटेशन व चर्चाएं हुईं.

इससे देश में सड़क विकास के नये रास्ते खुलेंगे. अधिवेशन में कई नागरिकों के हितों से संबंधित विषयों पर कार्यशाला हुई. तकनीक सत्र भी हुए जिसमें आईआईटी-एनआईटी ने हिस्सा लिया. विदेश से 22 डेलिगेट्स आए जिनकी भेंट केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस व पीडब्ल्यूडी मंत्री चंद्रकांत पाटिल से हुई. विदेशी प्रतिनिधियों से तकनीक ज्ञान का आदान-प्रदान हुआ. अधिवेशन के आयोजन का उद्देश्य सफल हुआ है. इससे विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों का आत्मविश्वास भी बढ़ा है.