Published On : Tue, Nov 11th, 2014

बुलढाणा : शिक्षा व्यवस्था में आमूलचूल परिवर्तन की आवश्यकता : अतुल

Atul Kulkarni
बुलढाणा।
यदि भारतीय समाज की मानसिकता बदलनी है तो पहले शिक्षा व्यवस्था में आमूलचूल परिवर्तन करने की जरूरत है. आज की शिक्षा से सिर्फ स्वार्थी लोग बनाये जा सकते हैं और स्वार्थी समाज का विकास नहीं कर सकते. ऐसे उन्मुक्त विचार अभिनेता अतुल कुलकर्णी ने रखे.

वे दिवंगत प्रा.डॉ. सदाशिव कुल्ली के 15वें स्मृति दिवस पर आयोजित विविध कार्यक्रमों के उदघाटन करने के बाद अपने विचार उपस्थितों से साझा कर रहे थे. कार्यक्रम के अध्यक्ष बुलढाणा अर्बन बैंक के सर्वेसर्वा राधेश्याम चांडक थे. उनके साथ विधायक हर्षवर्धन सपकाल, राहुल बोंद्रे, नगराध्यक्ष टी. डी. अंभोरे प्रमुखता से उपस्थित थे. अभिनेता ने आगे कहा कि शिक्षा, स्वास्थ्य, सामाजिक सुधार में वृहद रूप पर काम करने की आवश्यकता है. प्रतिस्पर्धा के नाम पर विद्यार्थियों में एक अंधी दौड़ करवा रहे हैं. इसमें मुट्ठीभर ही आगे बढ़ पा रहे हैं, शेष नहीं. विद्यार्थियों का समग्र विकास कर उन्हें आगे लेन की आवश्यकता है.

इससे पहले कार्यक्रम का विधिवत उद्घाटन किया गया. और राजस्थानी लोकगीतों का शानदार कार्यक्रम हुआ.

Atul Kulkarni
Atul Kulkarni