Published On : Tue, May 26th, 2020

आरबीआई की घोषणाओं से मिलेंगी थोड़े दिनों की राहत-सीए ज़ुल्फेश शाह

रिजर्व बैंक आफ इंडिया ने आज रेपो रेट में 0.4 % फीसदी की कटौती की घोषणा की जीससे रेपो रेट घटकर 4 फीसदी पर आ गया है जो कि पहले 4.4 फीसदी था। रिवर्स रेपो रेट भी घटकर 3.75 फीसदी से कम होकर 3.35 पर आ गया है।रेपो रेट घटाने से बैंकों को आरबीआई से कम ब्याज पर कर्ज मिल सकेंगे और सभी बैंक भी ऋण पर ब्याज दर में कटौती कर अपने ग्राहकों को फायदा देंगी ऐसी आशा है जिसके बाद ग्राहकों की ईएमआई कम हो सकती है.वर्किंग कैपिटल सी सी लोन पर जो 31 अगस्त तक का ब्याज है उसे टर्म लोन में परिवर्तित करने की घोषणा की गई है,

जिससे उधोजको को किश्त में भुगतान करने की सुविधा मिलेगी।.बैंकों के मोरेटोरियम (ऋण स्थगन)को 3 महीने के लिए बढ़ा दिया है और अब इसकी अवधि 31 अगस्त तक कर दी गई है। ग्राहकों को 3 महीने के लिए अपने लोन की ईएमआई टालने की सुविधा मिल गई है। ग्राहकों को पहले मार्च से म‌ई 3 महीने के लिए ये सुविधा मिली थी लेकिन अब इसे अगस्त तक बढ़ाया गया है।अगर आप लोन की ईएमआई नहीं देंगे तो आपका एकाउंट एनपीए कैटेगरी में नहीं आएगा।

इस मोरेटोरियम से लोन लेने वाले ग्राहकों को अभी तत्काल जरुर राहत मिल जाएगी लेकिन भविष्य में उनकी लोन की अवधि कुछ महीनों के लिए आगे बढ़ जाएगी।यह जानने के बाद भी बडी संख्या में लोगों ने पिछली घोषणा के बाद ही मोरेटोरियम सुविधा ली है। यह अवश्य ध्यान रहे कि आरबीआई ने लोन की ईएमआई कुछ महीने टालने की सुविधा दी है न कि माफ की है,और टाली गई ईएमआई का भविष्य में भुगतान तो करना ही पड़ेगा.

हालाकि ये सुविधा लेने में कोई हानि नहीं है।लोन लेने वाले ग्राहकों को अभी से यह योजना बना लेनी चाहिए कि भविष्य में उनकी आर्थिक स्थिति पहले की तरह जब सामान्य होगी और उनके पास कुछ अतिरिक्त राशि होगी तो वे इसका इस्तेमाल लोन पेमेंट के लिए करेंगे।बेहतर होगा कि व्यापारी/उधोजक फाइनेंसियल प्लानिंग ठीक से करके अपना लोन खाता ठीक रखे.