Published On : Thu, Mar 28th, 2019

घटिया भोजन देने पर रेलवे के जनाहार पर लगा रु.1 लाख का जुर्माना

ड्रेनेज वर्क पूरा होने तक बंद रखने के निर्देश

नागपुर: नागपुर रेलवे स्टेशन पर स्थित जनाहार रेस्टॉरेंट से बच्चों को घटिया दर्जे का भोजन परोसे जाने को लेकर मध्य रेलवे प्रशासन ने जनाहार पर एक लाख रुपए का जुर्माना ठोंका है. साथ ही, जनाहार में ड्रेनेज लाइन फूटी होने से ड्रेनेज रिपेयरवर्क पूरा होने तक इसे बंद रखने के निर्देश भी जारी किए गए हैं.

गौरतलब है कि मंगलवार को रेलवे सुरक्षा बल ने बाल तस्करी के मामले का खुलासा करते हुए 28 बच्चों को अपने कब्जे में लिया था. इन बच्चों को आरपीएफ थाने लाए जाने और पूछताछ के दौरान यह बच्चे भूखे थे. उनके लिए नागपुर स्टेशन के प्लेटफॉर्म 1 पर स्थित आईआरसीटीसी के जनाहार रेस्टॉरेंट से भोजन मंगाया गया था. लेकिन बच्चों ने दो निवाले खाने के बाद भोजन से मुंह फेर लिया. इसकी वजह पूछने पर उन्होंने कहा कि भोजन से बदबू आ रही है. इसके बाद आरपीएफ द्वारा जांच करने पर भोजन घटिया दर्जे का पाया गया. इससे यह भी साफ हो गया कि जनाहार रेस्टॉरेंट से यात्रियों को भी घटिया दर्जे का भोजन दिया जा रहा है.

इस मामले को मध्य रेलवे, नागपुर मंडल के वाणिज्य विभाग ने बेहद गंभीरता से लेते हुए बुधवार को जनाहार रेस्टॉरेंट का संचालन कर रही निजी कंपनी पर एक लाख रुपए का जुर्माना ठोंका. साथ ही, भोजन में बदबू आने के कारण का पता लगाने पर स्पष्ट हुआ कि जनाहार की ड्रेनेज लाइन फूटी हुई है. ऐसे में रेल प्रशासन ने ड्रेनेज लाइन के रिपेयर वर्क के पूरा होने तक जनाहार को बंद रखने के भी निर्देश जारी किए हैं.

आईआरसीटीस ने दानापुर-सिकंदराबाद एक्सप्रेस में अलग-अलग कंपनियों की बोतलों में सादा पानी बेचे जाने की शिकायत पर कार्रवाई करते हुए मंगलवार को इस ट्रेन की पेंट्रीकार से 70 बॉक्स (1 बॉक्स में 12 बोतल) जब्त किए थे. इस मामले में आईआरसीटीसी के अलावा मध्य रेलवे के कमर्शियल कंट्रोल की ओर से रिपोर्ट तैयार की गई है. यह रिपोर्ट दक्षिण मध्य रेलवे, सिकंदराबाद को भेज दी गई है. इसके आधार पर दक्षिण पूर्व रेलवे ही पेंट्रीकार ठेकेदार पर आवश्यक कार्रवाई करेगा.