Published On : Mon, Jan 21st, 2019

रेलवे परीक्षा: हाउसफुल हुई ट्रेनें, सुविधा के आभाव में परेशान हुए परीक्षार्थी

नागपुर: रेलवे की परीक्षा में शामिल होने के लिए बड़े पैमाने पर परीक्षार्थी दूर दराज़ से पहुंचते हैं. जिसके चलते ट्रेनें हाउसफुल हो गई हैं. हाल यह है कि प्रमुख परीक्षा केन्द्र के लिए सामान्य वर्ग के यात्रियों को भी आरक्षित स्लीपर क्लास के लिए नो रूम की सूचना मिल रही है. इनमें नागपुर से मुंबई और अहमदाबाद जाने वाली ट्रेनें प्रमुखता से शामिल हैं. अगले 2 दिनों तक नागपुर से अहमदाबाद की लगभग सभी ट्रेनें हाउसफुल हो चुकी हैं. वहीं, मुंबई के लिए भी वेटिंग 200 के करीब है. इससे परीक्षार्थियों की परेशानी बढ़ गई है.

अनेक ट्रेनों में ‘नो रूम’
नागपुर से बात करें तो रेलवे द्वारा यहां के अधिकांश परीक्षार्थियों को अहमदाबाद और मुंबई सेंटर दिया गया है. परीक्षार्थी अपने परीक्षा समय के हिसाब से ट्रेन चुनते हैं. परीक्षार्थियों को एक दिन पहले रवाना होना होगा लेकिन अब उनके लिए स्लीपर क्लास के सारे विकल्प बंद हो गए हैं. ऐसे में रविवार को नागपुर से अहमदाबाद के लिए प्रेरणा एक्सप्रेस, पुरी-गांधीधाम एक्सप्रेस, पुरी-अहमदाबाद एक्सप्रेस और हावड़ा-अहमदाबाद एक्सप्रेस है. लेकिन इन चारों ट्रेनों में ही नो रूम लग चुका है. वहीं, 21 जनवरी को चलने वाली दोनों ट्रेनों में आरक्षित टिकट मिलना बंद हो चुका है.

इसी प्रकार रविवार को मुंबई के लिए चलने वाली गीताजंलि और दुरांतो एक्सप्रेस में रिग्रेट हो चुका है. वहीं, विदर्भ, शालीमार और सेवाग्राम एक्सप्रेस में 200 से 300 के करीब वेटिंग पहुंच चुकी है. वहीं, सोमवार को गीताजंली में रिग्रेट है जबकि कर्मभूमि और दुरांतो एक्सप्रेस में क्रमश: 200 से 250 से अधिक की वेटिंग शुरू है जो रविवार को रिग्रेट होना तय है. वहीं, चेन्नई के लिए आम आदमी की ट्रेन यानि अंडमान एक्सप्रेस में नो रुम लग चुका है.

इस बार नहीं चली परीक्षा स्पेशल
उल्लेखनीय है कि इससे पहले रेलवे बोर्ड ने देश के विभिन्न शहरों तक परीक्षार्थियों को पहुंचाने के लिए स्पेशल ट्रेनें चलाई थी जो नागपुर से होकर भी चली थी. लेकिन इस बार ऐसा कुछ नहीं किया गया है. ऐसे में परीक्षार्थियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. सामान्य दर्जे के यात्री के लिए आरक्षित श्रेणी के तौर पर स्लीपर क्लास ही सबसे बेहतर होता है लेकिन नो रूम होने से अब यात्रियों को जनलर क्लास का रुख करना होगा. यदि स्लीपर क्लास में यात्रियों की संख्या का यह हाल है तो जनरल क्लास की स्थिति समझी जा सकती है.

एक्स्ट्रा कोच की मांग : यादव
जेडआरयूसीसी सदस्य सतीश यादव ने अहमदाबाद जाने वाली प्रेरणा एक्सप्रेस समेत सभी ट्रेनों में रिग्रेट की स्थिति देखते हुए परीक्षार्थियों के लिए एक्स्ट्रा कोच की मांग की है. उन्होंने एसीएम एसजी राव से मिलकर कम से कम प्रेरणा एक्सप्रेस में स्लीपर और एसी क्लास की 1-1 अतिरिक्त कोच की लिखित मांग की. राव ने भी उचित समाधान का आश्वासन दिया. हालांकि आनन-फानन में उपरोक्त ट्रेनों में एक्स्ट्रा की सुविधा संभव होती नजर नहीं आती.