Published On : Tue, Jul 10th, 2018

महाराष्ट्र के पूर्व पुलिस महासंचालक के भ्रस्टाचार की हो जांच

नागपुर: अधिवेशन सत्र में राष्ट्र निर्माण संगठन के सचिव नीलेश नागोलकर ने महाराष्ट्र राज्य के पूर्व पुलिस महासंचालक सतीश माथुर पर भ्रस्टाचार के कई आरोप लगाए हैं. उन्होंने माथुर की जांच करने की मांग को लेकर मुख्यमंत्री को भी निवेदन सौंपा है. नीलेश ने इस बारे में बताया कि सतीश माथुर पुलिस महासंचालक के पद पर रहते हुए तबादले के लिए पैसों की मांग की शिकायतें बहुत बढ़ गई थी.

शिकायतें पूरे राज्य से पुलिस कर्मियों और अधिकारियो द्वारा उनके पास आयी थी. लेकिन वे उस समय ऊंचे पद पर थे. जिसके कारण उनके खिलाफ एक्शन नहीं लिया गया. लेकिन अब वे रिटायर हो चुके हैं. ऐसे में इस मामले में उनकी जांच करना आसान हो गया है. इसके साथ अनेक अधिकारी भी इस मामले से जुड़े हुए हैं.

इसलिए विशेष जांच पथक या फिर सीबीआई से इस मामले की पूरी जांच करना चाहिए. नीलेश का कहना है कि पूर्व पुलिस महासंचालक सतीश माथुर के कार्यकाल, काम और व्यवहार की पूरी जांच होनी चाहिए. उनकी और उनके परिवार की सम्पूर्ण चल अचल संपत्ति की भी जांच की जानी चाहिए.

पुलिस निरीक्षक संजय निकम व जाधवराव के भी सीडीआर की जांच हो. माथुर द्वारा आयोजित फाइव स्टार होटल की पार्टियों की भी जांच की जाए. माथुर के विदर्भ के ताड़ोबा स्थित होटल और रिसोर्ट की भी जांच हो. माथुर के 2 साल का फ़ोन का सीडीआर निकाला जाए. जिससे की पूरा मामला सामने आए.

नीलेश ने कहा कि पूर्व पुलिस महासंचालक की शिकायत करने के बाद अगर उनके या उनके परिवार के किसी भी सदस्य के साथ कुछ गलत होता है या फिर उनको किसी भी प्रकार की धमकी मिलती है तो इसके जिम्मेदार पूर्व पुलिस महासंचालक, आयजी आस्थापना राजकुमार वटकर, पुलिस निरीक्षक संजय निकम व पुलिस निरीक्षक जाधवराव होंगे. नीलेश ने कहा कि अगर इस मामले की जांच नहीं की गई तो वे उच्च न्यायलय में जाएंगे.