Published On : Mon, Dec 11th, 2017

शीतसत्र के पहले ही दिन दाल चावल पर करना पड़ा पुलिस जवानों को गुजारा


नागपुर: शीतसत्र अधिवेशन की शुरुआत हो चुकी है. सोमवार को गणेश टेकड़ी रोड पर बंदोबस्त के लिए लगे पुलिस कर्मियों को दोपहर में खाना दिया गया. लेकिन खाने का मैन्यू सुनकर आप हैरान हो जाएंगे. सुरक्षा व्यवस्था में कड़ी मेहनत करनेवाले पुलिस कर्मचारियों को दोपहर के लंच में केवल दाल और चावल (भात) ही पहुंचाया गया. यहां के पुलिस कर्मियों को खाने में सब्जी और रोटी नहीं मिल पाई थी. मराठवाड़ा, खानदेश और पश्चिम महाराष्ट्र समेत अमरावती,अकोला,जलगांव के ज्यादातर लोग चावल नहीं खाते हैं. रोटी नहीं होने के कारण और केवल चावल ही होने की वजह से कई पुलिस कर्मियों ने खाना ही नहीं खाया, तो वहीं कुछ महिला पुलिस कर्मियों को मज़बूरी में नसीब में आए इस खाने के निवालों को हलक से उतारना पड़ा.

यही नहीं परोसा गया खाना गर्म भी नहीं था. बता दें कि हफ्ते भर पहले नागपुर पुलिस विभाग की ओर से दावा किया गया था कि 10 रुपए में गरमा गर्म खाना पुलिस कर्मियों को उपलब्ध कराया जाएगा. लेकिन अधिवेशन के पहले ही दिन दोपहर तीन बजे ही रोटियां और सब्जी खत्म हो चुकी थीं. जिसके कारण अब दो सप्ताह की चिंता पुलिस कर्मियों को सताने लगी है. इस बारे में खाना पहुंचानेवाले शख्स से जब बात की गई तो उसने बताया कि सब्जी और रोटी बांटने के कारण खत्म हो चुकी है.


जानकारी के अनुसार इस बार 7 कैटरर्स को ठेका दिया गया है. पिछली बार पुलिस कर्मियों को पार्सल में खाना दिया गया था. लेकिन खाना पहुंचते पहुंचते ठंडा होने की वजह से इस बार कैटरर्स की व्यवस्था की गई है. लेकिन बावजूद इसके पुलिस कर्मियों की थाली से सब्जी और रोटी गायब रही.

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement