Published On : Wed, Jan 18th, 2017

Video: नारेबाजी से चिढ़कर पुलिस ने काँग्रेसी कार्यकर्ताओं पर लाठी चार्ज किया

नागपुर: नोटबंदी के फैसले के विरोध में बुधवार को काँग्रेस पार्टी ने नागपुर में आरबीआई दफ्तर के सामने प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन के दौरान पार्टी कार्यकर्ताओं ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इस दौरान कांग्रेस के कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच बहस हो गई जिसके नतीजतन पुलिस ने कार्यकर्ताओं पर लाठी भांज दी जिसमे 7 कार्यकर्ता घायल हो गए जबकि एक कार्यकर्ता का हाँथ फ्रैक्चर हो गया।

काँग्रेस के नेताओं ने पुलिस के इस रवैये पर कड़ा रोष व्यक्त किया है। पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने मामले की जाँच कर दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की माँग की है। पुलिस लाठीचार्ज के विरोध में पृथ्वीराज चव्हाण, विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष राधाकृष्ण विखे पाटिल, पूर्व केंद्रीय मंत्री विलास मुत्तेमवार विरोध में आरबीआई के गेट के सामने जमीन पर धरना देकर बैठ गए और दोषी पुलिस कर्मियों के निलंबन की मांग करने लगे। नेताओं के कड़े रुख को देखते हुए पहले डीसीपी जोन -3 एम राकेश कलासागर ने उन्हें समझने का प्रयास किया। जब नेता नहीं माने तब खुद सहायक पुलिस आयुक्त ने मौके पर पहुँचकर प्रदर्शनकारी नेताओं से चर्चा की।

काँग्रेस ने भाजपा नेताओं के इशारे पर शांति से प्रदर्शन कर रहे काँग्रेसी कार्यकर्ताओं पर हमला कराने का आरोप लगाया।

संविधान चौक पर विरोध सभा के बाद काँग्रेस पार्टी के नेता पृथ्वीराज चव्हाण के नेतृत्व में आरबीआई के क्षेत्रीय निदेशक को अपनी माँगों का निवेदन देने गेट पर पहुँचे। नेताओं के अंदर घुसते ही कार्यकर्ता उग्र हो गए। युवक काँग्रेस के शहर अध्यक्ष बंटी शेलके अपने कार्यकर्ताओं के साथ गेट पर के ऊपर चढ़कर नारेबाजी करने लगे। इतने में ही प्रदर्शनकारी कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच झड़प हो गई। पुलिस ने दो कार्यकर्ता को हिरासत में लिया, जिसके बाद कार्यकर्ता और उग्र हो गए। पुलिस के अनुसार कार्यकर्ताओं ने सुरक्षा में लगे डीबी स्कॉड के दो जवानों के साथ बदसलूकी की जिस वजह से उन्हें लाठी चार्ज करना पड़ा। इस लाठीचार्ज में पार्टी के इरशाद अली, प्रकाश साबले, धीरज पांडे, आमिर नूरी और बुजुर्ग कार्यकर्ता लीलाबाई म्हैसकर के साथ अन्य दो कार्यकर्ता घायल हो गए। एनएसयूआई के अध्यक्ष आमिर नूरी का हाथ पुलिस की मार से फ्रैक्चर हो गया।

इस लाठीचार्ज के विरोध में कार्यकर्ताओं ने रास्ता रोको आंदोलन भी किया। घटना के बाद आरबीआई के ठीक सामने संविधन चौक पर जमा होकर रास्ता रोको आंदोलन किया गया। विशाल मुत्तेमवार के नेतृत्व में हुए इस प्रदर्शन में पार्टी के कार्यकर्ता रास्ते पर बैठ गए। यहाँ भी जमकर नारेबाजी हुई और दोषी पुलिसकर्मी पर कार्रवाई की माँग की। इस प्रदर्शन की वजह से काफी देर तक यातायात बाधित रहा।