Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
    | | Contact: 8407908145 |
    Published On : Wed, Jul 1st, 2020

    पेट्रोल- डीजल के बढ़े दामों को वापस लें मोदी सरकार- वानखडे

    – बढ़े दामों से आम लोगों की जरूरत की चीजें हुई महंगी- राज्य कोषाद्यक्षय श्री जगजी सिंग

    नागपुर- आम आदमी पार्टी जिला नागपुर ने आज पेट्रोल/डीजल के बढ़े दामों को लेकर आज 1 जुलाई को संविधान चौक पर विरोध प्रदर्शन किया ।

    पेट्रोल और डीजल के बढ़े दामों को लेकर नागपुर संयोजक श्रीमती कविता सिंघल ने कहा कि आज पेट्रोल और डीजल के बढ़े दामों से आम जनता बढ़ी महंगाई से त्रस्त है । केंद्र सरकार की नीतियां किस हद तक दोहरी और जनता विरोधी हैं , इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि जब बीजेपी विपक्ष में थी तो पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ने पर वह आसमान सिर पर उठा लेती थी

    लेकिन आज स्थिति यह है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत गिरकर 40 डॉलर प्रति बैरल के स्तर पर आ गई है लेकिन मोदी सरकार है कि कोरोना काल में मुश्किल हालात का सामना कर रहे उद्योगों और आम लोगों को राहत देने के लिए पेट्रोल-डीजल की कीमतों को कम नहीं कर रही है। सरकार की निष्ठुरता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि मौजूदा समय में पेट्रोल पर कुल एक्साइज ड्यूटी 32.98 रुपये प्रति लीटर और डीजल पर 31.83 रुपये प्रति लीटर है | नरेंद्र मोदी सरकार ने 2014 में जब सत्ता संभाली थी, उस वक्त पेट्रोल पर एक्साइज 9.48 रुपये प्रति लीटर और डीजल पर 3.56 रुपये प्रति लीटर था |

    इस तरह, इन तकरीबन छह सालों में पेट्रोल पर एक्साइज में 23.5 रुपये प्रति लीटर और डीजल पर 28.27 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई है l पेट्रोल और डीजल के दामों में मोदी सरकार ने बीते 21 दिनों में लगातार वृद्धि की है ।

    नागपुर सचिव श्री भूषण ढाकूलकर ने कहा कि केंद्र सरकार को समझना चाहिए, कोरोना संकट के समय पेट्रोल- डीजल के दाम बढ़ने से फल, सब्जी, राशन ,दवाई सभी के दाम बढ़ रहे हैं, इससे आम जनों को इस संकट के समय गहरी आर्थिक मार पड़ रही है । डीजल के दाम बढ़ने से किसानों की खेती में लागत बढ़ गई है ।

    नागपुर सहसंयोजक (दक्षिण) डॉ जाफरी ने कहा कि केंद्र सरकार को राजस्व के अन्य श्रोत देखना चाहिए । नागपुर के संगठन मंत्री श्री शंकर इंगोले ने कहा कि अन्तर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेलों की कम हुए कीमत का फायदा देश के आम नागरिकों को मिलना चाहिए , इसलिए मोदी सरकार को तुरंत पेट्रोल – डीजल के बढ़े दामों को वापस लेना चाहिए। इस आंदोलन के दौरान नितिन रामटेके, हर्षा रामटेके, ऑड जय शिंदे, निखिल तिरपुढे, पायल शिंदे व निखिल मेडवड़े इन्होंने आम आदमी पार्टीमें पक्ष प्रवेश लिया।

    पेट्रोल – डीजल के आज हुए विरोध प्रदर्शन में राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य अंबरीश सावरकर,राज्य युवा मोर्चा सदस्य कृतल वेलेकर, विदर्भ युवा मोर्चा संयोजक पियुष आकरे व प्रभात अग्रवाल, रवीन्द्र घीदोडे, विक्रम ठाकरे, पंकज मिश्रा, स्वप्नील सोमकुंवर, निखील गुजर, नीरज शाहू, राजेश इंगळे, सारंग शेंडे, रोशन डोंगरे , नितीन रामटेके, सोहेल गणवीर , संजय जीवतोडे, सचिन पारधी, कृ पुष्पा ढाबरे, पायल शिंदे,चमन बमनेले, राजेश तिवारी, एम. झेड. काजी, अजय शिंदे, हेमंत बनसोड, संजय तिमांडे, देवेंद्र परिहार, संतोष वैद्य, अजय धर्मे, एस. टी. रायपुरे, ए. जी. सोलंकी, नफीज शेख, प्रतिक बावनकर, विश्वजित वाघमारे, आकाश कावळे, राहुल कावळे, शालिनी अरोरा,विकास घरडे, निलेश सिंग गोहलोत, शंकर इंगोले, किशोर चिमूरकर, दीपक भातखरे उपस्थित थे।

    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145