Published On : Wed, Jun 21st, 2017

मनपा की डस्टबिन वितरण योजना को जनता ने नाकारा

Advertisement

File Pic


नागपुर
 : केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय के निर्देश के बाद नागपुर में मनपा सूखा और गीला कचरा संकलन की योजना चला रही है। योजना को सफल बनाने के लिए और जनजागृति फ़ैलाने के लिए खुद मनपा हर घर में दो डस्टबिन वितरित कर रही है। इस डस्टबिन को हासिल करने के लिए नागरिकों को 31 जून तक ऑनलाइन आवेदन करना है। मनपा का लक्ष्य है की वो शहर भर में 11 लाख डस्टबिन का वितरण करेगी लेकिन खास बात है की योजना की कार्यवधि को सिर्फ 10 दिन बचे है और अब तक मात्र 830 डस्टबिन का वितरण किया गया है। हर घर में डस्टबिन पहुँचाने के लिए बाकायदा मनपा की आम सभा में प्रस्ताव रखा गया।

सभा में डस्टबिन मुफ्त में बांटी जाये या पैसे लेकर जनता को दिया जाये इस पर विवाद भी हुआ। अंत में दोनों पर्यायों को मंजूरी देते हुए योजना को मंजूरी दी गयी। 5 जून को अंतर्राष्ट्रीय पर्यवारण दिवस के दौरान भव्य समारोह के तहत डस्टबिन वितरण कार्यक्रम का आयोजन हुआ। हर जोन में 250 डस्टबिन वितरण का फ़ैसला लिया गया लेकिन मनपा इतनी डस्टबिन का वितरण करने में भी कामियाब नहीं हुई जिस वजह में भारी हंगामा हुआ। इस विवाद के बाद अब खुद नागरिको ने डस्टबिन के लिए आवेदन करना जैसे छोड़ दिया है।

मुफ्त में डस्टबिन के लिए 31 जून तक आवेदन किया जा सकता है। शहर में कुल साढ़े पांच लाख संपत्ति धारक है इस हिसाब से कुल 11 लाख डस्टबिन का वितरण किया जाना है। लेकिन योजना के शुरू होने के पहले 10 दिनों में कुल 459 आवेदन हुए उसके बाद 8 दिनों में 371 आवेदन किये गए। आवेदन करने में लक्ष्मीनगर जोन के लोग आगे रहे बाक़ी जोन ने योजना को ठंडा प्रतिसाद ही मिला। जनता के इस रुख को देखकर योजना की कामियाबी पर संशय निर्माण होना संभव है। लेकिन मनपा के स्वास्थ्य उपसंचालक प्रदीप दासरवार का कहना है की योजना को भले उम्मीद के हिसाब से प्रतिसाद न भी मिला हो पर आने वाले दिनों में जनता की रूचि इसमें बढ़ेगी और अगर जरुरत पड़ी तो योजना की अवधि को बढ़ाया भी जा सकता है।

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement