Published On : Tue, Jun 12th, 2018

मुर्ग नक्षत्र में समय अनुसार हो रही बारिश से किसानों के चहरे खिले

नागपुर: गत पाच छह वर्षों से किसानों को ओलावृष्टि, तुफान,बेमौसम बारिश, सुखा,बोंड इल्ली, कोहरे की मार से तथा उत्पादन फसलों को आर्थिक रूप बाजार भाव नहीं मिलना लागता अनुसार फसलों का उत्पादन में कमी तथा फसलों उचित मुल्य न मिलने से खर्चा भी निकलना मुश्किल हो गया है। आये दिन रासायनिक खाद तथा कृत्रिम खादों के दाम बढ़ाने उनकी किमते आसमान छू रहे हैं. तथा किसानों के हित में न निसर्ग और व्यापारी नीति न सरकार कोई उपाययोजना भी किसानों को कोई मददगार साबित नहीं होते दिखाई दे रही है.

जिससे किसान आज सभी जिने की उम्मीद से हार का सामना करते हुए दिखाई देता है. वर्तमान स्थिति में सुधार जल से जल नहीं हुई तो इस तरह के चक्रव्यूह में गिरे किसानों आधे से ज्यादा खेत खलिहानों को बंजर भूमि होने में देर नहीं लगती जिस वजह से अधिकांश किसानों ने अपने खेत खलिहानों को बेचना शुरू कर दिया है. लेकिन आज भी पहले के तौर तरीके से अब किसानों को अपनाना चाहिए जिससे कम खर्च में कटौती की खेती करने लगे तो उत्पन्न में बढ़त होगी। वहीं आज अब पुरानी पद्धति से सेंद्रिय खेती (खोबर खाद) कि और ज्यादा रूख करते दिखाई दे रहे हैं.

Advertisement

जैसे जैसे मोसम अपना रूख कर रहा है वैसे ही किसानों द्वारा अपने खेत खलिहानों कार्य तैयारी तेज कर दी है. रोज दिन में धूप छाव के मौसम के गर्मी अपना रूख दिखाई दे रही है वहीं शाम होते होते हुए बादलों का गर्जना के साथ जमकर बरस रहे हैं.

Advertisement

जिस वजह से किसानों की समय अनुसार हो रही बारिश से नहीं किरनो कि उम्मीद आस लगाए जा रहे हैं अपने खेतों को तैयार कर भूवाई पैरनी करने के लिए तैयार बैठे हुए हैं और जोरदार झम झम बारिश का इन्तजार कर रहे हैं.

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement