Published On : Tue, Apr 21st, 2015

अमरावती : संभाग में बीएड का पर्चा रद्द

परीक्षार्थियों का जमकर हंगामा

B. AD paper  Cancel
अमरावती। बीएड की परीक्षा के पहले ही दिन सोमवार को उस समय परीक्षार्थियों ने जमकर हंगामा मचाया, जब टाइम टेबल के अनुसार आधुनिक समाज भारतीय शिक्षण की जगह शैक्षणिक मानसशा विषय का पर्चा थमा दिया. पूरे संभाग में हुई इस गड़बड़ी ने प्रबंधन की कलई खोल दी है. आखिरकार सोमवार का पर्चा रद्द करने का निर्णय उच्च शिक्षा विभाग ने लिया. जिससे संतप्त परीक्षार्थी शांत हो पाये.

मानव शास्त्र का पेपर थमाया
20 अप्रैल सोमवार से संभाग में बीएड की परीक्षाएं शुरु हुई. जिसमें संभाग से करीबन 1800 विद्यार्थियों ने सहभाग लिया है. बीएड परीक्षा के पहले दिन सोमवार की सुबह 9 बजे से आधुनिक समाज भारतीय शिक्षक का पेपर होना था. अमरावती में इस परीक्षा के लिए एचवीपीएम व मातोश्री विमलाबाई देशमुख महाविद्यालय सेंटर दिये गये थे. सोमवार को जैसे ही परीक्षा हॉल में पेपर के गढ्ढों की सील तोडक़र छात्रों को प्रश्नपत्रिका सौंपी.यह प्रश्नपत्रिका देखकर परीक्षार्थी दंग रह गये. क्योंकि उन्हें आधुनिक समाज भारतीय शिक्षक पेपर की बजाए शैक्षणिक मानव शास्त्र का पेपर थमाया गया. जबकि यह पेपर 23 अप्रैल गुरुवार को होने वाला है. इन विद्यार्थियों ने तत्काल ही केंद्र प्रमुख को प्रश्न पत्रिकाएं लौटाकर दूसरा पेपर मांगा, लेकिन केंद्र प्रमुखों के पास भी इन पेपरों के अलावा और कोई दूसरा पेपर नहीं था.

छात्रों पर दबाव बनाने का प्रयास
केंद्र प्रमुखों ने तत्काल ही अन्य स्थानों पर पूछताछ की, तो पता चला कि वहां भी यहीं पेपर विद्यार्थियों के हाथ लगा है. इतनी बड़ी भूल सामने आते ही हरकत में आये. विवि प्रशासन के अधिकारी परीक्षा सेंटरों पर पहुंचे, बताया जाता है इस समय प्रशासन की ओर से पेपर छुड़वाने के लिए विद्यार्थियों पर दबाव भी बनाया गया, किंतु विद्यार्थियों ने साफ इंकार कर कहा कि उन्होंने जिस पेपर की पढाई व तैयारी नहीं की, तो पेपर कैसे दे. इस दबाव पर छात्रों ने हंगामा मचा दिया.

संभाग में 1800 परीक्षार्थी
सभी विद्यार्थी परीक्षा हॉल के बाहर चल गये. दूसरे पेपर की प्रतिक्षा में वह घंटों कक्ष के बाहर खड़े रहे. विद्यार्थियों के विरोध के कारण विवि प्रशासन की ओर से समूचे संभाग में 20 अप्रैल के पेपर को रद्द कर दिया. इतनी बड़ी गलती किसने की और कौन इसके लिए जिम्मेदार है. इस दिशा में प्रशासन जांच कर रहा है.