Published On : Thu, Nov 10th, 2016

15000 रूपए से ज्यादा के टिकिट पर लगेगा पेन कार्ड, टिकिट कैंसिल करने पर चेक से पेमेंट

नागपुर: 500 और 1000 की नोट रेल टिकिट के माध्यम से खपाने की जानकारी सामने आने के बाद भारतीय रेल ने बड़ा फैसल लिया है। लिये गए फैसले के मुताबिक देश भर में जिसने भी 9 ,10 या तो 10000 रूपए से ज्यादा की रेल टिकिट निकाली है या जो शुक्रवार को यानि 11 सितंबर को टिकिट निकालेंगे। अगर वह अपनी टिकिट कैंसिल करते है तो उन्हें भारतीय रेल द्वारा पैसे का भुगतान चेक के माध्यम से किया जायेगा। रेल विभाग द्वारा यात्रियों को चेक उनके निवास स्थान पर पोस्ट के माध्यम से भेजा जायेगा। रेलवे ने यह कदम बड़ी नोट को भुनाने के लिए देश भर में वेटिंग टिकिट लिए देश भर में बड़े पैमाने पर वेटिंग टिकिट निकाले जाने की खबरों के सामने आने के बाद लिया है। भारतीय रेल सरकार द्वारा प्रचलन में बंद किये गए 500 और 1000 के नोट शुक्रवार तक ही लेगी। पर विभाग ने एक और फैसला लेते हुए भविष्य में 15000 या से ऊपर की टिकिट लिए जाने पर यात्रियों का पैन कार्ड अनिवार्य करने का भी फैसला लिया है। 11 सितंबर तक ऐसे टिकिट जिनकी वैल्यू 10 हजार से ज्यादा होगी उनसे उसे बुक करने वाले ग्राहक से टिकिट डिपॉजिट रिसिप्ट दिया जायेगा। जिसेंमें ग्राहक टिकिट के संबंध में सारी जानकारी होगी साथ ही रेल विभाग के पास भी सारी जानकारी होगी। अतः जो ग्राहक इन तीन दिनों के भीतर निकाली गई टिकिट कैंसल कराएगा उसकी जानकारी जोन ऑफिस में बैठने वाले चीफ कमर्शियल सेक्शन ऑफिसर के पास भेजी जाएगी और उन्ही के मार्फ़त चेक ग्राहकों के घरो पर पोस्ट किया जायेगा। नागपुर मंडल रेल पीआरओ प्रवीण पाटिल ने विभाग के इस फैसले की जानकारी देते हुए बताया की रेलवे बोर्ड की ही तरह नागपुर मंडल कार्यालय ने भी सरकार द्वारा बंद की गयी नोटों को भुनाने के लिए रेलवे का उपयोग करने वालो पर कड़ी निगरानी कर रहा है।

कई स्टेशन में जानबूझकर बड़े नोट चलाने का मामला आया सामने
हलाकि इस बात का अधिकारी अकड़ा नहीं है की सामान्य दिनों की तुलना में 9 और 10 तारीख को कितनी मात्रा में वेटिंग टिकिट निकाली गयी। पर सूत्रों के मुताबिक इन दो दिनों में जीतनी टिकिट की बिक्री हुयी है वह आम दिनों की तुलना में ज्यादा है। पुलगांव स्टेशन में 500 और 1000 के नोट भुनाने के लिए जानबूझकर वेटिंग टिकिट निकाले जाने की जानकारी है। आम तौर पर काउंटर से बिक्री होने वाली टिकड़ॉ का अकड़ा दो दिनों बाद सामने आता है अब 12 तारीख को जानकारी सामने आएगी की इन तीन दिनों में नागपुर मंडल से कुल कितनी और कीमत की टिकिट की बिक्री हुयी है।

नागपुर स्टेशन में चिल्लर की मारामारी
500 और हजार के नोट पर पाबंदी के बाद उन जगहों पर भी चिल्लर की भारी कमी दिखी जहाँ नोट स्वीकार्य करने की अनुमति है। शहर भर के साथ रेलवे के काउंटर पर भी चिल्लर की भारी दिक्कत रही। टिकिट निकालने वाले ज्यादातर लोग 500 और हजार के नोट लेकर काउंटर पर पहुँचे। रेल कर्मियों के पास जितनी खुली नोट थी वह जल्दी ख़त्म हो गयी। काउंटर पर भी खुले नोट आये नहीं जिससे नागरिको को भारी दिक्कत का सामना करना पड़ा। कई लोगो को बिना टिकिट निकाले ही वापस लौटना पड़ा।