Published On : Thu, Jan 31st, 2019

लाखों रुपए का बिजली बिल भी नहीं चुकाया और अब सीधे डीपी से बिजली चोरी कर रहा के.आर.सी. लॉन

10 जनवरी 2019 को काटी गई थी बिजली, रु.9.36 लाख बिजली बिल बकाया,एक वर्ष से भी अधिक समय से बिल न भरने के कारण काटी गई थी बिजली, तब पुलिसवाला बन कर धमकाया; अब पोल से सीधे सप्लाई लेकर चला रहा काम, सप्लाई काटने के बाद भी बगैर जेनरेटर के धड़ल्ले से मनाई जा रही थीं पार्टियां

नागपुर: तकरबीन एक वर्ष तक बिजली बिल न भरने के कारण मानकापुर रिंग रोड स्थित के. आर. सी. लॉन की बिजली 10 जनवरी 2019 को काट दी गई थी. साथ ही मीटर तथा सप्लाई केबल भी निकाल दिया गया था. इस कार्रवाई के तुरंत बाद ग्राहक (अयाज़ अली सैय्यद) ने पुलिसवाला बनकर एसएनडीएल के कर्मचारी को फोन किया और धमकाया तथा अभद्र भाषा का प्रयोग किया था. इस कार्रवाई के बावजूद लॉन मालिक ने बिजली बिल की बकाया राशि तो नहीं भरी लेकिन अब सीधे डीपी से बिजली चुराने की उसकी करतूत सामने आ रही है.

आज हुए प्रकरण ने एसएनडीएल के कर्मचारियों के होश उड़ा दिए. दरअसल बिजली कनेक्शन काटने के बाद से ही के.आर.सी लॉन पर नज़र रखी जा रही थी. पुष्ट सूत्रों से यह बात सामने आई कि लॉन में नियमित रूप से बड़े स्तर की पार्टियाँ आयोजित हो रही हैं, परंतु सप्लाई के लिए जेनरेटर का इस्तेमाल नहीं किया जा रहा है. ऐसे में एक ही निष्कर्ष निकलता था कि बिजली चोरी से सप्लाई की जा रही होगी. इसी आधार पर आज, 30 जनवरी 2019 को उक्त लॉन पर एसएनडीएल के दक्षता पथक ने कार्रवाई की और अपनी शंका को सही पाया

अब लॉन और सभी आयोजन बिजली चोरी के बल पर: ग्राहक ने किसी प्रायवेट इलेक्ट्रिशियन की मदद से नज़दीकी पोल से सीधे केबल डलवाकर बिजली चोरी शुरु कर दी थी. अभी इस बात की जांच की जा रही है कि यह केबल उपरोक्त कार्रवाई के बाद डाला गया या काफी पहले से ही बिजली चोरी का सिलसिला जारी था. बहरहाल, जब विजिलेंस टीम स्पॉट पर पहुँची तो किसी आयोजन की तैयारी की जा रही थी और शाम के पांच बजे ही तकरीबन 30 किलोवॉट का लोड चलाया जा रहा था. संभावना जताई गई कि आयोजनों के दौरान औसतन 50 से 80 किलोवॉट का लोड (भार) खींचा जाता है. बुधवार को सतर्कता दस्ते ने देर शाम तक आयोजन से पूर्व कार्रवाई कर विद्युत अधिनियम 2003 की धारा 135 और 138(ब) के अंतर्गत केस बुक किया. जिसमें लगभग रु.1.10लाख का असेसमेंट (दंड) निर्धारित किया गया है. साथ ही आगे ऐसी किसी भी चोरी से बचने के उद्देश्य से एसएनडीएल ने के.आर.सी. लॉन के पास से गुज़र रही ओवरहेड लाइन को ही निष्क्रिय कर दिया. साथ ही एसएनडीएल कल उक्त ग्राहक द्वारा इस प्रकार बिजली चोरी करने तथा अपने और आमजन के जीवन से खिलवाड़ करने के विरोध में एफ आई आर दर्ज करवाएगी.

एसएनडीएल ने गिट्टीखदान पुलिस स्टेशन द्वारा प्रदत्तपुलिस बल के साथ यह कार्रवाई पूरी की जिसमें पीआई आढाऊ, पीएसआई शालिनी किलनाके, पीएसआई जोगी शामिल थे. एसएनडीएल द्वारा जारी प्रेस विज्ञपित में बताया गया कि इस प्रकार आयोजनों के लिए चोरी से बिजली लेने पर एसएनडीएल अब लॉन मालिकों के अलावा आयोजनकर्ताओं को भी एफ.आई.आर. में नामजद करेगी.