| | Contact: 8407908145 |
    Published On : Thu, Sep 5th, 2019

    रायसोनी में एक दिवसीय राष्ट्रीय एएसएमई-ईएफएक्स कार्यक्रम १४ को

    नागपुर -: जी. एच. रायसोनी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, नागपुर में एक दिवसीय राष्ट्रीय स्तरीय के तकनीकी कार्यक्रम ‘एएसएमई-ईएफएक्स’ (अमेरिकन सोसायटी ऑफ मॅकेनिकल इंजीनियर्स) का आयोजन १४ सितंबर, २०१९ को जीएचआरसीई द्वारा नागपुर तथा विदर्भ क्षेत्र में दूसरी बार एएसएमई इंडिया के सहयोग से आयोजित किया जा रहा है I एएसएमई ईएफएक्स एक दिवसीय कार्यक्रम है जो दुनिया भर के स्थानीय महाविद्यालयों तथा विश्वविद्यालयों के अभियंत्रिकी छात्रों के उत्साहवर्धन, सामुदायिकता, नवीनता जैसे गुणों के विकास तथा अनुभवों को साझा कराने हेतु एक मंच उपलब्ध कराने के उद्देश्य से आयोजित किया जाता है।

    प्रो. के के अग्रवाल, एनबीए, अध्यक्ष इस आयोजन के मुख्य अतिथि होंगे। वह अभियंत्रिकी शिक्षा के वर्तमान परिवेश पर अपने विचार प्रस्तुत करेंगे। कार्यक्रम की शुरुआत एएसएमई इंडिया के अध्यक्ष श्री मधुकर शर्मा के एएसएमई जागरूकता सत्र के साथ होगी। इम्प्रोमाप्टू डिजाइन चैलेंज, उद्योग ४.0, बायो-मिमिक्री कार्यशाला का आयोजन इस कार्यक्रम के दौरान किया जाएगा।

    एएसएमई-ईएफएक्स का मुख्य आकर्षण इम्प्रोमाप्टू डिज़ाइन चैलेंज है, जिसमें ५ छात्रों के समूह को समस्यात्मक प्रश्न दिए जाएंगे और दो घंटे के भीतर वर्किंग मॉडल विकसित किया जाएगा, जिसे विशेषज्ञों के सामने परीक्षण किया जाएगा। यह जीएचआरसीई द्वारा आयोजित कार्यक्रम की एक अनूठी विशेषता है, जिसे पिछले साल एएसएमई कार्यकारी परिषद, न्यूयॉर्क द्वारा अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर काफी सराहा गया था। इस कार्यक्रम में ‘उद्योग ४.0’ तथा ‘स्मार्ट विनिर्माण’ पर सत्र आयोजित किया जायगा जो एबीबी, बॉश और सीमेंस जैसी प्रसिद्ध बहु-राष्ट्रीय कंपनियों द्वारा संचालित किया है। बायो-मिमिक्री और नेचर एस्पायर डिज़ाइन वर्कशॉप बायोमिमिक्री इंडिया, बैंगलोर के सह-संस्थापक श्री प्रशांत धवन द्वारा संचालित किया गया है ।

    जीएचआरसीई को एएसएमई-ईएफएक्स २०१८ में उत्कृष्ट आयोजक के तौर पर सम्मानित किया गया है। यह पुरस्कार अधिकतम पंजीकृत उम्मीदवारों, संगठन गुणवत्ता, कार्यक्रम (गतिविधियाँ) गुणवत्ता, आतिथ्य और समग्र अनुभव और प्रतिभागी प्रतिक्रिया के आधार पर दिया जाता है। इस कार्यक्रम में १३ शहरों और ४ राज्यों के ४९ विभिन्न अभियंत्रिकी और डिप्लोमा महाविद्यालयों के ८०० से अधिक प्रतिभागी उपस्थित रहेंगे। पहले से ही इस कार्यक्रम को जबरदस्त प्रतिसाद मिल रहा है I अलग-अलग प्रतिभागियों ने ९ शहरों और ३ राज्यों के ३१ अलग-अलग महाविद्यालयों जैसे आयआयटी दिल्ली, एनआयटी जलंधर से इस आयोजन के लिए पंजीकृत कराया है। किसी भी अभियांत्रिकी शाखा के छात्र कार्यक्रम में भाग लेने के लिए पात्र हैं।

    सभी प्रतिभागियों को अंतर्राष्ट्रीय एएसएमई प्रमाणपत्र प्राप्त होगा I इस कार्यक्रम में लगभग ३०० प्रतिभागियों ने अपना नाम पंजीकृत कर लिया है। डॉ. प्रीती बजाज, संचालिका (जीएचआरसीई), इस महान अवसर का अधिकतम लाभ लेने का अनुरोध किया है । डॉ. एस.बी जाजू,(डीन आर एंड डी, जीएचआरसीई), डॉ. आरएस शैल्के, मॅकेनिकल विभाग प्रमुख (जीएचआरसीई), प्रो. एडी पीतले, एएसएमई-ईएफएक्स संयोजक, डॉ नीलेश आवटे, एएसएमई-ईएफएक्स सह-संयोजक, अनितेक मराठे, विद्यार्थी संयोजक तथा कोरिना परेरा, उप जनसंपर्क अधिकारी पत्रकार परिषद में उपसथित थे I

    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145