Published On : Thu, Nov 28th, 2019

नितिन राउत ने मंत्री पद की शपथ ली

Maharashtra: उद्धव ठाकरे के बाद शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे और सुभाष देसाई ने शपथ ग्रहण की. उनके बाद एनसीपी नेता जयंत पाटिल और छगन भुजबल ने शपथ ग्रहण की. उनके बाद कांग्रेस की ओर से बालासाहेब थोराट और डॉ. नितिन राउत ने मंत्री पद की शपथ ली.

मुंबई: शिवसेना (Shiv Sena) प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने महाराष्ट्र (Maharashtra) के 18वें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण की. महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के नतीजे 24 अक्टूबर को घोषित होने के एक महीने बाद 59 वर्षीय ठाकरे ने सीएम पद की शपथ ली. मुंबई के शिवाजी पार्क (Shivaji Park) में शपथ ग्रहण समारोह में राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी उन्‍हें पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई. मुख्‍यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद उद्धव ने मंच पर नतमस्‍तक होकर जनता और समर्थकों के सामने आशीर्वाद लिया. उद्धव ठाकरे के बाद शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे और सुभाष देसाई ने शपथ ग्रहण की. उनके बाद एनसीपी नेता जयंत पाटिल और छगन भुजबल ने शपथ ग्रहण की. उनके बाद कांग्रेस की ओर से बालासाहेब थोराट और डॉ. नितिन राउत ने मंत्री पद की शपथ ली.

शपथ ग्रहण समारोह में कई बड़ी राजनीतिक हस्तियां शिवाजी पार्क पहुंची और सभी मंच पर आसीन रहे. इनमें महाराष्‍ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) के प्रमुख और उद्धव ठाकरे के भाई राज ठाकरे, कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता अहमद पटेल, मल्लिकार्जुन खड़गे, कपिल सिब्‍बल, एनसीपी नेता सुप्रिया सुले, अजित पवार, नवाब मलिक, छगन भुगबल, प्रफुल्‍ल पटेल, शिवसेना के वरिष्‍ठ नेता मनोहर जोशी, मध्‍य प्रदेश के सीएम कमलनाथ समेत अन्‍य नेता मौजूद हैं. वहीं, पूर्व मुख्‍यमंत्री और बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस और बीजेपी के प्रदेश अध्‍यक्ष चंद्रकांत पाटिल भी कार्यक्रम में पहुंचे. वहीं, उद्योगपति मुकेश अंबानी और उनकी पत्‍नी नीता अंबानी भी मंच पर मौजूद थे.

शपथ ग्रहण समारोह में भाग लेने के लिए शिवाजी पार्क में पहले से ही भारी भीड़ पहुंची है. शपथ ग्रहण समारोह के लिए भव्‍य मंच बनाया गया है, जिसमें प्रमुख रूप से शिवाजी महाराज की मूर्ति को रखा गया है. उद्धव ठाकरे शाम 6 बजे मातोश्री से शिवाजी पार्क के लिए रवाना हो गए थे. उद्धव ठाकरे मनोहर जोशी और नारायण राणे के बाद इस पद पर काबिज होने वाले शिवसेना के तीसरे नेता हैं.

वहीं, एनसीपी नेता और पूर्व उप मुख्‍यमंत्री अजित पवार ने शपथ नहीं ली. सभी अटकलों पर विराम लगाते हुए खुद अजित पवार ने कहा था कि वह नवनियुक्त मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ गुरुवार को शपथ नहीं लेंगे. अजित पवार ने कहा था कि इसमें एनसीपी के राज्य अध्यक्ष जयंत पाटिल व पूर्व उप मुख्यमंत्री छगन भुजबल शपथ लेंगे. उन्होंने कहा कि नई सरकार के विश्वास मत हासिल कर लेने के बाद मंत्रिमंडल का विस्तार किया जाएगा. उन्होंने संकेत दिया कि उन्हें बाद में कैबिनेट में शामिल किया जा सकता है.