Published On : Mon, Oct 17th, 2016

मनपा की हॉकर्स झोन पर व्यापारिक संगठन एनवीसीसी ने उठाई आपत्ति

Burdi Hawkers (5)

File Pic

 

नागपुर: नागपुर महानगर पालिका द्वारा सोमवार को आयोजित की गई हॉकर्स झोन कमिटी की बैठक में मनपा की ही लापरवाही पेश हुई। स्मार्ट सिटी की संकल्पना को साकार करने के लिए कई तरह के कामो पर गंभीरता से विचार किया जाना जरुरी है। उसी में से एक सड़को पर बे रोक टोक घूमने वाले रेहड़ीवालों पर रोक लगाना भी जरुरी है। मनपा सड़क पर लगने वाले बाजारों की समस्या को सुलझाने के लिए हॉकर्स झोन और नो हॉकर्स झोन की जगहे तय करती है। इसी संबंध में मनपा से एक नोटिफिकेशन निकाला है।

इसी पर चर्चा करने के लिए मनपा ने 15 तारीख को नोटिस भेजकर सोमवार को शहर के विभिन्न संगठनो को चर्चा के लिए बुलाया था। इस चर्चा में शामिल होने वाले संगठनो के मुताबिक 15 तारीख को भेजा गया नोटिस उन्हें आज 12 बजे मिला। नोटिस में दी गई जानकारी के मुताबिक सोमवार को शहर की विभिन्न संगठनो के साथ मनपा ने सुबह 11 बजे से 5 बजे तक का वक्त तय किया था। पर इस बैठक में महज खानापूर्ति करते हुए कई संगठनो की रायशुमारी के बिना बैठक ख़त्म कर दी गई। 11 बजे शुरू हुई बैठक 2 बजे ख़त्म भी हो गई। जबकि मनपा ने जिन संगठनो को चर्चा के लिए नोटिस भेजा था उसमे 5 बजे तक का वक्त था। जिस वजह से कई संगठन के प्रतिनिधी दोपहर बाद पहुँचे। बैठक ख़त्म होने की जानकारी मिलने के बाद संगठनो के प्रतिनिधियों ने हैरानी जताई।

हालांकि मनपा पहुँचे संगठनों के प्रतिनिधियों को वापस लौटने की बजाये मनपा बाजार समिति के अधिकारियो ने बैठक लेकर उनके सुझावों को सुना। इस बैठक में शामिल एनवीसीसी के प्रतिनिधियों ने मनपा द्वारा निकाले गए नोटिफिकेशन पर आप्पति जताई। एनवीसीसी के मुताबिक मनपा ने जो नोटिफिकेशन निकाला है। उसमे सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन का पालन नहीं किया गया है। हॉकर्स जोन निर्धारित किये जाने संबंधी निर्णय के लिए बाकायदा सुप्रीम कोर्ट ने 18 मुद्दों को प्रविष्ठ करते हुए निर्देश जारी किया है। एनवीसीसी ने शहर के प्रमुख व्यापारिक इलाके इतवारी में नंगा पुतला से तीन नल चौक तक हॉकर्स जोन बनाये जाने संबंधी फैसले पर भी अपना विरोध दर्ज कराया है।