Published On : Tue, Mar 5th, 2019

परीक्षा भवन के लॉकर से गायब हुए लाखों रुपए को लेकर एनएसयूआई ने किया विरोध प्रदर्शन

नागपुर: नागपूर यूनिवर्सिटी के अमरावती रोड स्थित परिक्षा भवन के लॉकर से गायब हुए लाखों रुपए के मामले को लेकर एनएसयूआई के पदाधिकारियों ने विरोध प्रदर्शन किया. प्रदर्शन के दौरान एनएसयूआई के पदाधिकारियों ने जमकर नारेबाजी की और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की. इस दौरान वहा पर मौजूद परिक्षा नियंत्रक डॉ. नीरज खटी ने पुलिस को सूचना दी जिससे स्थिति और गम्भीर हो गई.

इस बारे में महाराष्ट्र प्रदेश युवक कांग्रेस के महासचिव अजित सिंह ने बताया कि परिक्षा भवन के लॉकर से गायब हुए लाखों रुपए के पूरे मामले को लेकर सबसे पहले एनएसयूआई ने रविवार को परिक्षा नियंत्रक से मुलाकात की थी और कुलगुरु से फ़ोन पर बात की थी. इसके बाद भी उचित जांच की बात करने वाले यूनिवर्सिटी कुलगुरु और परीक्षा नियंत्रक ने अपनी तरफ से पुलिस को कोई भी सूचना नही दी. इससे साफ होता है कि यूनिवर्सिटी प्रशासन आरोपीयों को बचाने का प्रयास कर रही है. इस दौरान उन्होंने सुरक्षा प्रणाली और सीसीटीवी कैमरे को लेकर भी सवाल उठाएं. इस समय उन्होंने प्रोमार्क कंपनी पर भी सवाल किए की कैसे इसके कर्मचारी परीक्षा भवन में आते जाते हैं. प्रोमार्क कंपनी किसकी है और इसका कार्यालय कहीं भी नहीं दिखाई देता.

इस दौरान मौजूद एनएसयूआई के प्रदेश उपाध्यक्ष अभिषेक सिंह ने बताया कि प्रोमार्क के पास सभी 40-50 लाख विद्यार्थियों का डाटा कितना सुरक्षित है और जिस प्रकार प्रोमार्क कंपनी है. इससे पहले एमकेसीएल ने गड़बड़ी कि थी वही सवाल प्रोमार्क पर भी उठता है. परीक्षा भवन मे स्थिति तनावपूर्ण होने के बाद नागपुर जिला एनएसयूआई के पदाधिकारियों ने यूनिवर्सिटी के कुलगुरू सिद्धार्थविनायक काणे, प्रा.कुलगुरु प्रमोद येवले, कुलसचिव व परीक्षा नियंत्रक नीरज खटी को इसके लिए जिम्मेदार माना है और इन सभी के इस्तीफे की मांग करते हुए अंबाझरी पुलिस स्टेशन में एनएसयूआई ने नागपुर यूनिवर्सिटी से पहले शिकायत दर्ज कराई और निष्पक्ष जांच की मांग की है.

एनएसयूआई के अन्दोलन के कारण नागपुर यूनिवर्सिटी के परिक्षा नियंत्रक ने दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने की बात कही है. इस दौरान विरोध प्रदर्शन कर रहे एनएसयूआई के पदाधिकारियों मे राष्ट्रीय प्रतिनिधि अमीर नूरी, जिला उपाध्यक्ष शादाब शोफी, महासचिव प्रतीक कोल्हे, प्रदीप कुमार प्रसाद, विवेक राय, शुभम वाघमारे, प्रणय ठाकुर, संदीप जैन, दादा भोयर, निखिल वानखेडे, कुणाल चौधरी, करण ठाकुर, रवि राज, हर्ष नांदरे, अनिकेत मोरे, हर्ष सेलूकर, वैभव गिरी, परिमल अबरुक, भावेश अटल मौजूद थे.