Published On : Tue, May 15th, 2018

परिवहन समिति 18 मई को देगी बजट

NMC Nagpur

नागपुर: हाल ही में परिवहन विभाग की ओर से वित्तीय वर्ष 2017-18 का संशोधित और वित्तीय वर्ष 2018-19 का संशोधित बजट समिति को पेश किया गया था. माना जा रहा है कि विभाग की ओर से दिए गए बजट में आय बढ़ाने को लेकर कुछ विकल्प तो दिए गए, लेकिन घाटा कम करने के लिए यह प्रयास पर्याप्त नहीं है. अत: घाटा कम करते हुए लोगों को उच्च स्तर की सेवाएं और विशेष रूप से कुछ वर्ग के लिए सेवाओं में वृद्धि के साथ 18 मई को समिति की ओर से बजट पेश होने की संभावना है. इस बजट में यात्रियों की सुविधा पर जोर देते हुए करीब डेढ़ दर्जन जगहों पर वाटर एटीएम लगाने का प्रावधान किया जा सकता है.

सभापति के अचानक निरिक्षण में डिम्ट्स की खुली पोल
शहर बस सेवा का संचालन करने का अनुभव नहीं होने के कारण संचालन के लिए नियुक्त किए गए 4 आपरेटर और 2 टिकिटिंग एजेन्सी की कार्यप्रणाली पर नजर रखने, बसों में यात्रियों की संख्या बढ़ाने की दृष्टि से प्रयास करने और बेतरतीब संचालन की खामियों को दूर करने के लिए दिल्ली इंटीग्रेटेड मल्टीमोडल ट्रांजिट सिस्टम (डिम्ट्स) कम्पनी की नियुक्ति की गई, लेकिन कम्पनी की कार्यप्रणाली का आलम यह है कि संचालन के लिए बनाए गए कंट्रोल रूम में ही डिम्ट्स के कर्मचारी नदारद रहने का मामला उजागर होने से अब कम्पनी पर गाज गिरने की जानकारी परिवहन सभापति बंटी कुकड़े ने दी.

उन्होंने बताया कि हाल ही में बस सेवा संचालक के कंट्रोल रूप में दोपहर 12 बजे के करीब अचानक दौरा किया गया, लेकिन इस समय कोई भी कर्मचारी कंट्रोल रूम में नहीं था. जिससे कम्पनी पर जुर्माना ठोंकने के निर्देश प्रशासन को दिए हैं. लेकिन यह भी कड़वा सत्य है कि मनपा प्रशासन लाख खामियों के बाद भी करोड़ों में डिम्ट्स को भुगतान का सिलसिला जारी रखा है. उसके बदले डिम्ट्स सिर्फ अन्य लाल बस के ऑपरेटरों को जबरन आर्थिक नुकसान पहुँचाने में लीन है. जबकि डिम्ट्स का काम रोजाना यात्री में बढ़ोत्तरी, आय में वृद्धि आदि तय करना है.

डिम्ट्स के प्रोजेक्ट डायरेक्टर अमित हितकरी को रोज आधा दिन नागपुर में रहना अनिवार्य है. इसके लिए उन्हें २ लाख रुपए मासिक मनपा के मार्फ़त दिया जाता है. लेकिन वे माह में १-२ दिन ही यहां रहते हैं. इन सब के बावजूद परिवहन विभाग और समिति की जुगलबंदी के कारण डिम्ट्स मनपा में बतौर ठेकेदार कायम है. अगले माह के पहले सप्ताह में परिवहन समिति के सदस्यों को सपरिवार डिम्ट्स के खर्चे से दिल्ली दौरा आयोजित किया गया है. इस दौरे के बाद डिम्ट्स के प्रति परिवहन समिति का रोष और कम हो जाएगा.