Published On : Wed, Nov 15th, 2017

मनपा करेगी श्याम होटल को पुरातत्व सर्वेक्षण के हवाले


नागपुर: सीताबर्डी स्थित पुराना श्याम होटल परिसर को नागपुर महानगर पालिका अपने कब्जे में लेकर भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के हवाले करेगी ताकि वहां डॉक्टर बाबासाहेब आंबेडकर राष्ट्रीय संरक्षण स्मारक का निर्माण किया जा सके. इस होटल की जमीन वर्ष २०३४ तक मेसर्स आस्वाद रेटॉरेंट प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के नाम लीज पर है.

याद रहे कि लंबे समय से श्याम होटल की जगह आंबेडकर स्मारक बनाने की मांग होते रही है. इसके लिए मनपा में ३१ दिसंबर २०१६ को संरक्षित स्मारक घोषित करने का प्रस्ताव मंजूरी किया गया था. इस पर मार्च २०१७ को राज्य सरकार ने पत्र लिखकर मनपा को सूचित किया कि किसी भी वास्तु को अगर राष्ट्रीय संरक्षित स्मारक बनाना है तो उसकी जमीन भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के हवाले करना अनिवार्य है.

इसलिए मनपा लीज रद्द कर सम्बंधित कंपनी को मुआवजा देने और भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के हवाले इमारत व परिसर को करने का प्रस्ताव आगामी २० नवम्बर की आमसभा में लाया जा रहा है. इसमें मनपा सभागृह आवश्यक कार्रवाही के सभी अधिकार तय रणनीति के हिसाब से मनपायुक्त को देने वाली है.


उल्लेखनीय है कि आयुक्त को सर्वाधिकार सौंपने के बाद लीज पर दी गई जगह पर खड़ी इमारत का अंकेक्षण कर वर्तमान बाजार भाव की दर से उसका मुआवजा तय किया जाएगा. वैसे मुआवजा तय करने का अधिकार जिलाप्रशासन को है. जिला प्रशासन सरकारी मानक से उसका मुआवजा तय कर मनपा को जानकारी देगी. मनपा फिर ‘सब्जेक्ट टू कंडीशन’ उक्त कंपनी को मुआवजा देगी। उक्त इमारत काफी जीर्ण हो चुकी है. फिलहाल इस इमारत में उक्त कंपनी से संबंधित एक वाइन शॉप संचालित की जा रही है. पीछे के एक कमरे में कंपनी का कार्यालय है, दूसरे कमरे में गोदाम है। शेष पूर्ण इमारत खाली पड़ी है.

इस मामले को लेकर बसपा नेता जमाल ने बताया कि स्थावर विभाग प्रमुख भूते के अनुसार इस होटल में बाबासाहेब अंबेडकर कब रहे, इस संबंध में पुख्ता जानकारियों का संकलन किया जा रहा है. और कोई ठोस जानकारी के लिए भी अवगत कराने की अपील की गई है. जमाल ने उक्त विषय संबंधी फाइल निरीक्षण के लिए मांग की तो भूते ने कहा कि सम्पूर्ण नस्ती महापौर के पास है. भूते ने बसपा नेता जमाल के सवाल पर आश्चर्यजनक जवाब दिया कि श्याम होटल अभी भी शुरू है, जब जमाल ने उन्हें हक़ीक़त से रु-ब-रु करवाया तो वे चुप्पी साध गए. भूते के जवाब से छुब्ध बसपा नगरसेवकों ने मनपायुक्त से आज दोपहर मुलाकात की और जल्द से जल्द स्मारक निर्माण के लिए पुरजोर मांग की.