| | Contact: 8407908145 |
    Published On : Fri, Jun 28th, 2019

    मैराथन चर्चा के बाद मनपा बजट आखिरकार मंजूर

    सभी ने की सभापति पोहाणे के बजट की सराहना

     

    नागपुर: मनपा का वर्ष २०१९-२० का आर्थिक बजट २६ जून को मनपा स्थाई समिति सभापति प्रदीप पोहाणे ने पेश किया था. यह पिछले वर्ष के बजट से ४ करोड़ रुपए कम का था. सबसे अंत में सत्तापक्ष नेता संदीप जोशी ने बजट की सराहना करते हुए सभापति के मंसूबे की स्तुति की तो दूसरी तरफ विपक्ष का बजट के चर्चा सत्र को छोड़ कर्मचारियों और ठेकेदारों के हितैषी दर्शाने पर उग्र भी हुए. अंत में महत्वपूर्ण सूचना देकर बजट को बहुमत से मंजूरी प्रदान की गई.

    जोशी ने कहा कि पिछले २ दशक से कर्मचारियों के हितार्थ भाजपा सक्रिय रही. फिर चाहे केंद्र व राज्य में विपक्ष की सरकार ही क्यों न रही हो. विपक्ष के आरोप को सही ठहराते हुए जोशी ने स्वीकार किया कि मुख्यमंत्री-गडकरी के सहयोग से मनपा का संचलन किया जा रहा है. उन्होंने प्रशासन से आभा पांडे द्वारा मनपा के पोर्टल पर मनपा द्वारा चलाई जा रही योजनाओं को पारदर्शिता से प्रकाशित करने की सूचना दी.

    नगरसेवकों की मांग पर आउटर क्षेत्र ५७२-१९०० लेआउट के विकास के लिए निधि बढ़ाने की जरूरत पर बल दिया. संदीप सहारे द्वारा एलईडी लाइट खरीदी घोटाला का आरोप लगाने के मामले में जाँच के लिए महापौर से आयुक्त स्तर का एक सदस्यी समिति द्वारा जाँच कर अगली सभा में रिपोर्ट प्रस्तुत करने की मांग की तो महापौर ने समिति तत्काल गठित कर जांचा का आदेश दिया.

    अगले ३ माह में टाउन हॉल का नए सिरे से निर्माणकार्य का भूमिपूजन की जानकारी जोशी ने दी. जलप्रदाय समिति द्वारा तैयार एटीआर सम्पूर्ण जानकारी होने का जिक्र किया.

    जोशी ने आयुक्त का अभिनन्दन करते हुए सभागृह को जानकारी दी कि आयुक्त की पहल पर बिमार एवजदारों के १६० परिजनों को नया ऐवजी कार्ड दिया गया.

    जोशी ने सार्वजानिक रूप से अफ़सोस जताया कि मनपा सार्वजनिक शौचालय मामले में काफी पीछे हैं,जिससे महिलाओं को खासकर अड़चनों का सामना करना पड़ रहा.इस सन्दर्भ में निधि बढ़ाने की जरुरत पड़ी तो पीछे हटेंगे. और अंत में प्रवीण दटके,दयाशंकर तिवारी,विक्की कुकरेजा,मोहम्मद जमाल,जुल्फेकार भुट्टो की महत्वपूर्ण सूचना देने के साथ ही बजट में सूचना सह बदलाव के सम्पूर्ण अधिकार सभापति पोहाणे को सभागृह ने प्रदान किया.

    भाजपा नगरसेवक प्रकाश भोयर ने बजट पर चर्चा की शुरुआत करते हुए कहा कि लोग कर भरने के लिए तैयार हैं लेकिन डिमांड समय पर नहीं पहुंचता. शहर निर्माण के वक़्त जनसंख्या पूर्ण करने के लिए 32 गांवों को शहर से जोड़ा गया था. लेकिन वे गांव विकास से दूर रहे, जिसके लिए इस वर्ष निधि का प्रावधान किए जाने पर सभापति का अभिनंदन किया. गोपाल नगर व खामला मार्ग के अतिक्रमण मुक्त करने ले लिए नया बाजार निर्माण की मांग की. साथ ही साथ जोन में अतिक्रमण दस्ता देने के प्रयास को सराहा। जोन सभापति निधि 20 लाख की बजाय 50 लाख करने की मांग की.

    कांग्रेस के नगरसवेवक कमलेश चौधरी ने कहा कि ओसीडब्लू और परिवहन घाटे को पाटने के लिए 120 करोड़ की उपलब्धता कराई जाए. सीमेंट सड़क निर्माण की निष्पक्ष समिति द्वारा जांच की मांग की. गौ माता चौक की बजाय नंदीग्राम योजना सकारने के लिए प्रशासन व सत्तापक्ष गंभीर पहल करे.

    बाल्या बोरकर ने मांग कि नगर भवन में सभा के वक़्त होने वाली असहजता से निराकरण के लिए हॉल को वातानुकूलित की जाए. बजट में पूर्व नागपुर का अध्ययन कर स्थान दिया गया.

    आभा पांडे ने कहा कि साइबर टेक द्वारा की गई गड़बड़ियों को उजागर किया जाए, जिसकी वजह से मनपा सम्पत्तिकर विभाग को दिए गए टारगेट तक पहुँचने में अड़चन आ रही है.

    मनोज सांगोले ने कहा कि टैक्स विभाग के मूल कर्मी विभाग में वापिस हों. निवृत विभाग के तृतीय वर्ग के कर्मियों को ठेकेदारी पद्धति पर नियुक्ति हो. बिल्डरों और कारखानों की पानी चोरी संबंधी की जांच हो. बढ़ते शहर व आसमान छूती इमारतों को आग से बचाने के लिए अग्निशमन यंत्र की कमी है. नगर रचना के प्रलंबित प्रकरणों व नासुप्र क्षेत्र के अवैध वसाहत की समीक्षा की जाए.

    किशोर कुमेरिया ने कहा कि पिछले 20 वर्ष से शहर के बाहरी इलाकों में पानी की समस्या जस की तस है. आज रोजाना 400 टैंकर दौड़ रहे हैं. नागरिकों की मांग है कि 24 की बजाय मात्र 2 घंटे रोजाना नियमित पानी दिया जाए. पानी का सामान वितरण हो, मनपा के पास टैंकर मुक्ति का कोई नियोजन नहीं है. अधिकारियों को ललकारा कि जिस का के लिए वेतन लेते हो, उस हिसाब से प्रमाणिकता के हिसाब से काम करने पर जोर दिया जाना चाहिए.

    नितिन सठवाणे ने कहा कि वे बजट और स्थाई समिति सभापति का अभिनंदन करते हैं. परिवहन का बजट इतनी आनन फानन में पेश किया गया कि 1 घंटे पूर्व सूचना दी गई और आजतक समिति सदस्यों को बजट की प्रति नहीं मिली. बजट के माध्यम से उन्होंने मांग की कि शहर के बाहर पार्किंग हब का निर्माण किया जाए. निजी परिवहन शहर में प्रवेश पर रोक लगाते हुए हब की व्यवस्था की जाए. इससे आपली बस की आय बढ़ेगी.

    दर्शनी धवड ने कहा कि रेन वाटर हार्वेस्टिंग को इस वर्ष शक्ति से अमल में लाया जाए. उनके प्रभाग में 80% लेआउट नागपुर सुधार प्रन्यास अंतर्गत है. सिर्फ 12 सोसाइटी मनपा की हैं. इसलिए इन क्षेत्रों में विकास के लिए 572-1900 क्षेत्र में विकास के लिए निधि बढ़ाने की मांग की.

    चेतना टांक ने कहा कि सभापति प्रदीप पोहाणे अभिनंदन के पात्र है. क्योंकि मनपा की 2 स्कूल को आदर्श स्कूल के रूप में तैयार करने की योजना बनाई. सड़क किनारे व डिवाइडर के बीच में वृक्षारोपण की पहल सराहनीय है. गुजरात दौरे का जिक्र करते हुए उन्होंने बताया कि शहर से गुजर रहे बड़े नालों पर स्लैब डाल कर उस पर पे एंड पार्क, मनोरंजन केंद्र व खेल उपकरण स्थापित की गई, इस प्रयोग को नागपुर में अपनाया जाए.

    बसपा के जितेंद्र घोडेस्वार ने खराब खड़ी बसों को शौचालय में परिवर्तित करने की योजना का स्वागत किया.

    संजय महकालकर ने सीमेंट सड़क निर्माण के तहत एक तरफ सड़क का निर्माण तो दूसरा तरफ अधूरे काम को पूरा करने की मांग की. लता मंगेशकर गार्डन और सक्करदरा तालाब को मनपा अधिग्रहित कर विकास करें. हुडकेश्वर नरसाला परिसर में सीवर व ड्रेन लाइन बिछाना समय की मांग है.

    मंगला गवरे ने कहा कि क्लास 1 के 103,क्लास 2 के 50,क्लास 3 के 2000,क्लास 4 के 1100 रिक्त पदों को तत्काल भरा जाए. नेहरू नगर ज़ोन के विवादास्पद चपरासी को क्लर्क बनाने वाले पर कानूनन कार्रवाई हो.

    प्रफ्फुल गुड़धे पाटिल ने प्रस्तावित बजट को आंकड़ों का खेल बताया. देश में मॉब लिंचिंग की घटनाएं हो रही हैं. हत्या की घटनाओं पर जय श्रीराम का नारा लगाना गलत हैं. कांग्रेस की ओर से जलियांवाला बाग की घटना को लेकर कोई लेन देन के बावजूद अधिकृत रूप से माफी मांगी थी. तब मोब – लिंचिंग बाहरी ने किया था,अब स्थानीय कर रहे हैं. इस पर सत्तापक्ष नेता संदीप जोशी भड़क गए और कहा बात ही निकली है तो पहले मॉब – लिंचिंग पर चर्चा हो जाए, बाद में बजट पर चर्चा करेंगे.

    इसका करारा जवाब मनपा में वरिष्ठ नगरसेवक भाजपा के दयाशंकर तिवारी ने देकर गुडधे की बोलती बंद कर दी.

    इसके बाद भी गुडधे थमे नहीं और उन्होंने कहा कि सत्तापक्ष का गांधी प्रेम समझ से परे है. हनुमान जोन का नाम बदलना ग़ैरकृत है.नाम रखने के बाद उस जोन में असुविधा हुई तो महापुरुषों की बदनामी होगी. पूर्व स्थाई समिति सभापति विक्की कुकरेजा की वजह से मनपा का जीएसटी अनुदान 1000 करोड़ बढ़ा.

    बजट के चर्चा में हरीश ग्वालवंशी,पुरुषोत्तम हज़ारे,विरंका भिवगड़े,वैशाली नारनवरे,जुल्फेकार भुट्टो,दुनेश्वर पेठे,संदीप सहारे,हर्षला साबले,प्रगति पाटिल,सुनील हिरणवार,राजेंद्र सोनकुसरे आदि ने भाग लिया.

    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145