Published On : Mon, Jan 7th, 2019

गड़करी द्वारा इंदिरा-नेहरु को याद करना क्या राजनीतिक भय की वजह से है -आशीष देशमुख

BJP-MLA-Ashish-Deshmukh

नागपुर: बीजेपी छोड़ कांग्रेस का दामन थामने वाले आशीष देशमुख केंद्रीय मंत्री नितिन गड़करी पर लगातार हमले बोल रहे है। सोमवार को देशमुख ने गड़करी द्वारा दिए गए हालिया बयानों को आधार बनाकर फिर हमला बोला। देशमुख के मुताबिक गड़करी को अचानक इंदिरा गाँधी और नेहरू की याद आ रही है कहीं यह उनके मन में बसे राजनीतिक भय की वजह से तो नहीं है। आरएसएस व भाजपा गांधी व नेहरु को लेकर विरोधी भूमिका में रहे हैं।

एक ओर जहाँ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह कांग्रेस के राजनेताओं के लिए अपमानजनक भाषा का प्रयोग करे है ऐसे में गड़करी का कांग्रेस के प्रेस कई सवालों को पैदा करता है। गड़करी के वक्तव्य कई सवाल पैदा कर रहे है। जिनका खुलासा होना चाहिए उन्हें साफ करना चाहिए कि उनके मन में क्या चल रहा है। भाजपा में उन्हें महत्व नहीं मिल रहा है। चुनाव कार्य से संबंधी भाजपा की समिति में जो स्थान नारायण राणे को मिला है वह गडकरी को भी नहीं मिल पाया है।

गड़करी ने इंदिरा गाँधी की तारीफ की,कुछ दिन पहले उन्होंने कहाँ था कि जवाहर लाल नेहरु के लेख पढ़ना और भाषण सुनना उन्हें पसंद है। 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव के परिणाम आने के बाद गड़करी ने कहा कि पराजय की जिम्मेदारी नेतृत्व को लेना चाहिए,उससे पहले बोलै कि रोजगार दिलाया नहीं जा सकता है।

चुनाव जीतने का भरोसा नहीं था इसलिए 2014 के चुनाव में भाजपा ने ऐसे वादे कर लिए जो सत्ता में आने पर पूरा कर पाना संभव नहीं है। विजय माल्या से लेकर अन्य मामलों में भी उनका वक्तव्य अलग है। ऐसे में उनके मन में क्या चल रहा है इसका खुलासा होना चाहिए। बीजेपी के ही नेता उन्हें उपप्रधानमंत्री बनाने की माँग उठा रहे है। देखा जा रहा है कि पिछले कुछ समय से भाजपा और आरएसएस में कुछ खिचड़ी पक रही है इसके बारे में भी स्थिति साफ़ होनी चाहिए।