Published On : Thu, Jun 20th, 2019

दौलत कमाने की नई ट्रिक पर पड़ा छापा

गोंदियाः फन वीडियो गेम के आड़ में चल रहे ऑनलाइन जुआ अड्डे का पर्दाफाश

Advertisement
Advertisement

गोंदिया: विज्ञान टेक्नालॉजी जहां हमारे लिए एक वरदान है तो एक अभिशाप् भी है? वहीं इसके कारण हमें कई अजीब तरह के किस्से भी सुनने में आ जाते है।महाराष्ट्र के अंतिम शोर पर बसा गोंदिया शहर इन दिनों महानगरों के नक्शे कदम पर चल पड़ा है। जुए का शौक फरमाने वाले व्यक्ति को अब नेपाल के काठमांडू या मुंबई के जुआघर में जाकर दांव लगाने की जरूरत नहीं ? और ना ही उसे गोवा के कैसीनो में जाकर खाक छानने की जरूरत है। यह सारी सुविधाएं गोंदिया जैसे छोटे से कस्बे में उपलब्ध हो चली है।

Advertisement

शहर के पॉश समझे जाने वाले रेलटोली के छोटी चोपाटी के सामने एक प्रख्यात होटल कॉम्प्लेक्स के तल मंजिल पर फन वीडियो गेम के आड़ में चल रहे जुआ अड्डे पर स्थानिक अपराध शाखा पुलिस दल ने बुधवार 19 जून शाम 7 बजे छापामार कार्रवाई की तथा डेढ़ लाख रूपये मुल्य का नगदी व साहित्य जब्त करते हुए क्लब चलाने वाले आरोपी चेतन (30 रा. शास्त्रीवार्ड) को धरदबोचा तथा क्लब मालक मनिष (रा. रामनगर) के खिलाफ रामनगर थाने में अपक्र. 181/19 के भादंवि 4, 5 महाराष्ट्र जुगार कायदा सहकलम 109 का जुर्म दर्ज किया है।

Advertisement

पुलिस ने इस अड्डेे से वीडियो फन गेम खेलने में इस्तेमाल फिलिप्स कंपनी के 2 मॉनिटर , डेल कंपनी के 3 मॉनिटर , एस्सार कंपनी का एक मॉनिटर , फन गेम खेलने हेतु लगाए गए वीआयपी कंपनी का एक सीपीयू , इंटेक्स कंपनी के 3 सीपीयू , एचसीएल कंपनी का एक सीपीयू , झेब्रीऑन कंपनी का एक सीपीयू , डीजीसीएल कंपनी के 2 मॉडम, 2 नग इलेक्ट्रॉनिक एक्सटेंशन बॉक्स, नगद राशि व 6 की-बोर्ड, 6 माऊस, बैठक के लिए लगाई गई प्लास्टिक कुुर्सियां व स्टूल इस तरह 1 लाख 45 हजार रूपये का साहित्य बरामद किया।

पुलिस ने जब छापा मारा, तब आरोपी चेतन यह फन वीडियो के आड़ में पैसों की बाजी लगाकर हारी-जीती का जुआ खिलवा रहा था जिसे पुलिस ने रंगेहाथों धरदबोचा। वहीं आरोपी मनिष यह, वीडियो फन गेम क्लब का मालक बताया जाता है, जिसपर भी पुलिस ने मामला दर्ज किया गया है तथा उनके एक अज्ञात साथीदार को भी फर्यादी पो.ह. मधुुकर कृपाण की शिकायत पर नामजद किया गया है। मामले की जांच वरिष्ठ पुलिस अधिकारी कर रहे है।

युवाओं में लगायी जाती है जुए की लत
ऑनलाइन गेम के जरिए जुुआ खेलने का धंधा अब घर तक पहुंच गया है। ऑनलाइन जुआ का कारोबार करने वाले, युवाओं को मोबाइल एप के जरिए गेम खेलने की आईडी बनाकर देते है फिर पाईंटों में गेम चलता है। गेम के जरिए जुआ खेलने वाले युवा एक रूपये में एक पाईंट खरीदते है, जो उनके मोबाइल एप में रहता है। क्वाईन हारने पर फिर से युवा रूपये खर्च कर क्वाईन खरीदकर ऑनलाइन गेम खेलते है। इसी के तहत फन अंदर-बाहर, फन टार्गेट, बिनगो, पोकर, तीन पत्ती, ट्रिप्पल फन, रोटेट जैसे ऑनलाइन गेम खूब चल रहे है। जुआ के पाईंट, हारने या जीतने पर शहर में इस कारोबार को चलाने वाले के पास पहुंचते है और पाईंट खरिदने और बेचने का काम करते है।


कौनसा गेम कैसे खेलते है?
फन अंदर-बाहर- इसमें अंक निर्धारित करना पड़ता है। प्रति मिनट अंक खुलते है, जिस अंक पर रूपये लगाए गए है, वह अंक खुलता है तो जीतने वालेे को लगायी गई राशि में से 10 गुना राशि दी जाती है।

फन टार्गेट- इसमें 1 से 10 तक अंक होते है, जीतने वाले को लगायी गई राशि की 9 गुना अधिक राशि दी जाती है।
रोटेट-यह गेम स्मार्ट मोबाइल के जरिए खेला जा सकता है? इसमें 1 से 38 (अंक) तक घर बने होते है, जिस अंक पर रुपये लगाए जाते है, वह अंक आने पर 1 रूपये के बदले 36 रूपये दिए जाते है।

तीन पत्ती- इसमें एक से अधिक कई व्यक्ति ऑनलाइन यह गेम खेलते है। इसमें अपने हिसाब से ऑनलाइन रूपयों का दांव लगाया जाता है।
पोकर- ताश के 2 पत्तों के जरिए यह गेम खेला जाता है, जिसके पत्ते भारी होते है वह जीत जाता है। इसमें भी लगायी गई राशि की 9 गुना अधिक राशि जीतनेवाले को दी जाती है।

कुल मिलाकर ऑनलाइन फन गेम के आड़ में गोंदिया में कई सट्टे और जुए के अड्डे बेधड़क और बेखौफ चल रहे है। इन अवैध धंधों के विषय में जब खबरें अखबारों की सुर्खियां बनती है तो पुलिस हरकत में आ जाती है और मौके से ऑनलाइन जुआ चला रहे लोगों की धरपकड़ शुरू की जाती है। बुधवार की रात एैसा ही कुछ गोंदिया में हुआ।

रवि आर्य

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement