Published On : Fri, Feb 1st, 2019

लापरवाही : श्वान के बच्चों को कार से कुचलने के मामले में एफआईआर में दर्ज नहीं किया वाहनचालक का नाम

Advertisement

नागपूर: गुरुवार को गांधी नगर में एक दिल दहलानेवाली घटना सामने आयी थी. जिसमें एक कारचालक ने फ़ोन पर बात करते हुए तीन बेजुबान श्वान के चार बच्चों पर गाडी चढ़ा दी. जिसके कारण इनमें से 3 बच्चों की मौत हो गई. लेकिन कारचालक को इससे कोई भी फर्क नहीं पड़ा. घटनास्थल पर मौजूद कुछ लोगों ने इसका विरोध किया और कारचालक के खिलाफ अंबाझरी पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज भी कराई. लेकिन इस एफआईआर में आरोपी कारचालक का कही पर भी नाम नहीं डाला गया है. हालांकि उसकी कार का नंबर डाला गया है. MH-31 DC 8989 गाडी का नंबर है. सीसीटीवी की फुटेज के आधार पर पूरी तरह से दिखाई दे रहा है कि कारचालक ने जानभूझकर इन बेजुबान बच्चों पर गाडी चढ़ा दी. जबकि सड़क पूरी खाली थी. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पुलिस की ओर से इस मामले को दबाने का प्रयास भी हो रहा है. इसलिए एफआईआर में धाराएं और गाडी का नंबर भी है लेकिन वाहनचालक का नंबर नहीं है. नागपूर शहर में जानवरों की सेवा करनेवाली संस्थाओ ने भी इसका विरोध किया है.

Advertisement
Advertisement

इस बारे में एनिमल वेलफेयर डिस्ट्रिक्ट ऑफिसर अंजली वैद्यार ने जानकारी देते हुए बताया कि एफआईआर रजिस्टर्ड हो चुकी है. उन्होंने बताया की एक वेलफेयर ऑफिसर होने के नाते उन्होंने इस मामले में दखल दिया. एफआईआर में नाम नहीं आना यह उनकी गलती नहीं है. मुझे फ़ोन आया था तब मै घटनास्थल पर पहुंची. वैद्यार ने बताया कि उसकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस का फ़ॉलोअप लेंगे. उन्होंने बताया की वाहनचालक का नाम सुधीर गजभिए है और वह मोबाइल पर बात कर रहा था.

सेव स्पीचलेस आर्गेनाईजेशन की संस्थापक स्मिता मीरे का कहना है की श्वान के बच्चों को वाहनचालक ने मारा है. यह एक कॉग्निजेबल ऑफेन्स में आता है. आरोपी वाहनचालक का नाम एफआईआर में नहीं डाला गया है. अब तक उसे गिरफ्तार नहीं करना भी कही न कही आरोपी को बचाने का प्रयास नजर आ रहा है. अब तक उसकी गिरफ्तारी होनी चाहिए थी. आरोपी वाहनचालक पर सख्त कार्रवाई के लिए वे मुख्यमंत्री को भी शिकायत और निवेदन देंगी.

अंबाझरी पुलिस स्टेशन के उप निरीक्षक आम्बूरे ने जानकारी देते हुए कहा कि श्वान के बच्चों को मारने पर वाहनचालक पर 279, 429 का गुन्हा दाखिल किया गया है. आज श्वान के बच्चों का पोस्ट मोर्टेम भी हुआ है. उन्होंने बताया की अभी तक किसी को गिरफ्तार नहीं किया गया है. एफआईआर में किसी का नाम नहीं है. केवल गाडी का नंबर है. आरटीओ से उसका पता निकाला जाएगा और उसे गिरफ्तार किया जाएगा.

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement