Published On : Sat, Nov 9th, 2019

रविवार को टी20 मैच के लिए जामठा में जमेगा रंग

नागपुर: भारत और बांग्लादेश के बीच खेली जा रही 3 टी20 मैचों की सीरीज का अंतिम व निर्णायक मुकाबला रविवार को विदर्भ क्रिकेट एसोसिएशन के जामठा मैदान पर होगा. प्रतियोगिता में दोनों टीमें 1-1 मैच जीतकर बराबरी पर हैं. अगले वर्ष आस्ट्रेलिया में होने वाले टी20 विश्व कप से पहले भारतीय टीम इस सीरीज को जीतकर अपनी तैयारियों को अमलीजामा पहनाना चाहेगी. दूसरी ओर, उलटफेर करने में माहिर बांग्लादेश की टीम भारत से पहली टी20 सीरीज जीतकर विश्व कप के लिए अपनी मजबूत दावेदारी पेश करना चाहेगी.

रिकार्ड सुधारने उतरेगी ‘मेन इन ब्ल्यू’
भारतीय टीम अंतिम मैच के लिए रविवार को मैदान पर उतरेगी तो उसकी निगाहें सीरीज जीतने के साथ जामठा में अपने आंकड़ों को सुधारने पर लगी होगी. 2009 से अबतक भारत ने यहां कुल 3 टी20 मैच खेले है. इस दौरान 1 में जीत मिली है जबकि 2 में हार का मुंह देखना पड़ा है. ‘मेन इन ब्ल्यू’ यहां बांग्लादेश को हराकर अपनी जीत के रिकार्ड को सुधारना चाहेगी.

नागपुर में हार जीत
-9 दिसंबर 2009 में श्रीलंका ने भारत को 29 रन से हराया.

-15 मार्च 2016 में भारत न्यूजीलैंड से 47 रनों से हारा.

-29 जनवरी 2017 में भारत ने इंग्लैंड को 5 रनों से हराया.

बांग्लादेश टीम के लिए नया अनुभव
बांग्लादेश के लिए जामठा की पिच बिल्कुल अनजान है, क्योंकि अबतक उसने यहां किसी भी फॉर्मेट का मैच नहीं खेला है. टीम पहली बार नागपुर में खेलने उतरेगी तो उसके सामने पिच से तालमेल बैठाने के अतिरिक्त भारतीय टीम की स्थानीय प्रशंसकों की शोर से पार पाना होगा. हालांकि बांग्लादेश अपने स्टार आलराउंडर शाकिब अल हसन और बल्लेबाज तमीम इकबाल की गैरमौजूदगी में खेल रही है, लेकिन दिल्ली के अरुण जेटली स्टेडियम में खेले गए सीरीज के पहले मैच में वह अपने जज्बे से यह साबित कर चुकी है कि सुनियोजित ढंग से खेलेंगे तो किसी भी बड़ी टीम को हरा सकते हैं.

पिच को समझ पाना मुश्किल
नागपुर की गुलाबी ठंड में दूधिया रोशनी के बीच ‘करो या मरो’ वाले इस मैच में पिच कैसी खेलेगी इसका अनुमान लगाना मुश्किल है. मैच में टास की भूमिका अहम होगी क्योंकि दूसरी पारी में गेंदबाजी करने वाली टीम को ओस का सामना करना पड़ सकता है. हालांकि जामठा की पिच को हमेशा से बल्लेबाजी के लिए मददगार बताई जाती रही है, लेकिन टीम के पास अच्छे गेंदबाज हो तो वे रनों पर अंकुश लगाकर विपक्षी टीम के विकेट चटका सकते हैं.

आरेंज सिटी पहुंची दोनों टीमें
राजकोट में बड़ी जीत दर्ज करने के बाद भारतीय टीम विशेष विमान से शुक्रवार की दोपहर 3 बजे के करीब नागपुर के डा. बाबासाहेब आम्बेडकर अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर पहुंची. साथ में बांग्लादेश की टीम भी जामठा में अपना पहला अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने के लिए आरेंज सिटी पहुंची. 1 घंटे की देरी से पहुंची फ्लाईट ने एयरपोर्ट पर मौजूद फैन्स की अपने पसंदीदा क्रिकेटरों को देखने की बेताबी को और बढ़ा दिया. दोनों टीमों के एयरपोर्ट पर पहुंचते ही भव्य स्वागत किया गया जिसके बाद कड़ी सुरक्षा के बीच खिलाड़ियों को बस से होटल ले जाया गया.

सुरक्षा के कड़े इंतजाम
जनवरी 2017 के बाद नागपुर एक बार फिर टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच के आयोजन को तैयार है. 10 नवंबर को होने वाले इस मैच में खेल प्रेमियों और खिलाड़ियों की सुरक्षा का कड़ा इंतजाम किये गए हैं. सुरक्षा के मद्देनजर सिटी पुलिस के सीपी डा. भूषणकुमार उपाध्याय ने जामठा स्टेडियम का जायजा लिया. उन्होंने स्टेडियम तक आने-जाने के अतिरिक्त पार्किंग समेत अन्य सुरक्षा व्यवस्था के लिए प्लानिंग जानी. सुरक्षा में कोई चूक न हो इसके लिए जाइंट सीपी रविन्द्र कदम, एडिशनल सीपी नीलेश भरणे, डीसीपी (ट्राफिक) चिन्मय पंडित, डीसीपी विवेक मसाड, पीआई विनोद चौधरी आदि को किसी तरह की अप्रिय घटनाओं को रोकने की जिम्मेदारी सौंपी गई है.