Published On : Mon, Jun 28th, 2021

ठेका श्रमिकों पर अन्याय के खिलाफ राष्ट्रीय मजदूर सेना का मुंडन आंदोलन कल

– मामला कोराडी विधुत परियोजना का

नागपुर – महानिर्मिती विधुत परियोजना अंतर्गत कोल कन्वेयर पाईप बेल्ट निर्माण कार्यों में कार्यरत सभी ठेका श्रमिकों को न्युनतम वेतन ईएसआईसी पीएफ व वेतन बढ़ोतरी के मामले मे अन्याय आर्थिक शोषण जैसी लालफीताशाही नीतियों के खिलाफ 29 जून को दोपहर 12 बजे मुंडन आंदोलन किया जायेगा।मजदूर सेना के जिला सचिव विजय पाटील ने जारी विज्ञप्ति में बताया कि यह ठेका निजी कंपनी को दिया गया था।परंतु कानून के मुताबिक इसका जिम्मेदारी व जबावदारी मुख्य मालिक परियोजना के मुख्य अभियंता को समझा जाएगा।

क्योंकि इस श्रमिक संगठन की तरफ से अनेक मर्तबा महानिर्मिती के मुख्य अभियंता,श्रम आयुक्त तथा सबंधित विभागों के तत्संबंधित अधिकारियों और मंत्रालय को समस्याओं का ज्ञापन दिया जा चुका है,बताते है कि ज्ञापन के अधार पर मामले की जांच-पड़ताल हूई। परंतु अधिकारियों के कान मे जूं तक नहीं रेंगी।नतीजतन संगठन को मुंडन आंदोलन का आस्था अपनाना पड रहा है ताकि शांत और मौन धारण कर सोये हुए अधिकारियों को नींद से उठाया जा सके?

उन्होंने आगे कहा कि क्रियेटिव्ह विजनेश असोसियेशन को सिविल गार्डन मेटनेन्स का दिया गया था।परंतु वहां कार्यरत श्रमिकों के साथ भी अन्याय हुआ है। ज्ञापन मे 17 स्त्रियों मांगे रखी है। जिसमे पिछले पांच महीने से प्रलंबित श्रमिकों का वेतन एक मुस्त दिलाया जाए,विधुत स्थापत्य विभाग 660 ×3 की चालीस महिला श्रमिकों बिना शर्त काम पर वापस लिया जाए,सुरक्षा रक्षकों को विना शर्तें वापस काम पर लिया जाए,सिंगोरी के सुरक्षा रक्षकों उनका प्रलंबित वेतन सहित वापस ड्यूटी पर लिया जाए.

सभी ठेका श्रमिकों को उनका पीएफ न्युनतम वेतन ईएसआईसी,बोनस,व अन्य भत्ता उपलब्ध कराया जाए। उसी प्रकार मुख्य अभियंता 210 मेगावाट के तत्कालीन ठेकेदार स्वर्गीय राजेश उज्जवने के तरफ कार्यरत सभी श्रमिकों प्रलंबित पगार उपलब्ध कराया जाए,बताते हैं कि ठेकेदार राजेश उज्जवने की वैश्विक महामारी कोरोना से आकस्मिक निधन हो गया है।परंतु अभि तक उनके पास कार्यरत श्रमिकों का वेतन बकाया है।

विगत सितंबर 2019 से प्रलंबित श्रमिकों का बकाया बढोतरी वेतन उपलब्ध करवाया जाए। जनवरी 2020 से 20% बकाया पूरक भत्ता व एरियस भी उपलब्ध कराया जाए। मुख्य अभियंता स्थापत्य -2 अंतर्गत 660×3 के तरफ कार्यरत ठेका श्रमिकों को काम करने वाले आठ श्रमिकों को वापस ड्यूटी पर लिया जाए। विधुत प्रकल्प मे रंग-रोगन पेंटिंग कार्यों को पेंटर श्रमिकों से करवाया जाए।, ISGEC हेवी इंजियरिंग कंपनी को ब्लैक लिष्ट करने, ठेकेदारों के बिलों से कटौति करके श्रमिकों को बकाया भुगतान करने,श्रमिक विरोधी गतिविधियों में लिप्त अधिकारियों को बरखास्त किया जाए। समस्त ठेका श्रमिकों के हाजरी कार्ड नियमित भरे जाएं।उसी प्रकार सभी ठेका श्रमिकों को उपस्थिति रजिस्टर-मस्टर मे नियमित उपस्थिति दर्ज करवाई जाए इत्यादि मांगो का समावेश है।उन्होंने इस आंदोलन का ज्ञापन लेने के लिए संबंधित विभाग के जिम्मेदार मुख्य अभियंता को उपस्थित रहने की अपील की है।

इस सबंध में राष्ट्रीय मजदूर सेना के शाखा अध्यक्ष प्रकाश लाडसे, उपाध्यक्ष सुदेश ढोणे, देवदास सब्वालाखे, गेंदलाल मांदाले,गणेश शेन्द्रे सुखराम मेश्राम, संगठन सचिव मनोज वाकले इत्यादि ने आंदोलन की तैयारियां पूर्ण कर ली है।उन्होंने सभी श्रमिकों को आंआदोलन मे उपस्थित रहने का आह्वान किया है।