Published On : Tue, Jan 15th, 2019

राष्ट्रीय राजमार्ग विकास निधि से होंगे नागपुर के विकास कार्य,1882 करोड़ रूपए मंजूर

नागपुर: शहर क़ी 20 विकास परियोजना का काम केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्रालय के राजमार्ग विकास निधि ( सीआरएफ ) फंड से पुरे किये जायेगे। बुधवार को केंद्रीय मंत्री नितिन गड़करी ने शहर के विकास कामों की रिव्यू बैठक में दी। शहर में विभिन्न परियोजना के लिए 1882 करोड़ रूपए मंजूर

किये गए है। महल स्थित टाउन हॉल में हुई बैठक में एनएचएआय,एमएमसी,एनआयटी,मेट्रो,जिलाधिकारी कार्यालय के अलावा सम्बंधित विभाग के अधिकारी शामिल हुए। शहर की 20 परियोजनाये जो गड़करी के मंत्रालय से सीधे जुडी है उनके लिए यह फंड उपलब्ध कराया जायेगा। इन परिओयोजनओं में से 11 की निविदा जारी हो चुकी है बची 9 परियोजना की निविदायें 1 हफ्ते के भीतर करने का आदेश गड़करी ने सम्बंधित विभागों को दिए।

राज्य सरकार ने नया जीआर ( शासनादेश ) निकाला है जिसके माध्यम से 1 हफ्ते के भीतर अधिग्रहण के अलावा सभी कामों को निपटाकर निविदा निकालने का प्रावधान है। गड़करी ने इसी का आधार लेकर काम करने को कहाँ है। बुधवार बाज़ार के नवीनीकरण का प्रेजेंटेशन सात दिन में देने का आदेश भी इस बैठक में दिया गया। साथ ही यशवंत स्टेडियम को तोड़कर बनाये जाने वाले नये स्टेडियम और आस-पास की जगह में होने वाले काम की फ़ाइल मंजूरी के लिए राज्य सरकार के पास भेज दिए जाने की जानकारी प्रशासन द्वारा इस बैठक में दिए गए।


इन परियोजनाओं के लिए आवश्यक जगहों को सम्बंधित विभाग अधिग्रहण करके उपलब्ध करायेगे। गड़करी ने बताया की टेकड़ी के सामने उड़ान पुल के लिए रक्षा मंत्रालय की लगभग डेढ़ एकड़ जगह ली गई है जिसके बदले विभाग को अहमदनगर में जगह दी जायेगी। साथ ही इस परियोजना के प्रभावित दुकानदार विस्थापन के लिए हामी भर चुके है जिन्हे मेट्रो द्वारा तैयार किये जा रहे मार्केट में जगह उपलब्ध कराई जायेगी।

जिन कामों के लिए निधि उपलब्ध हुई है वह इस प्रकार है।

-पारडी उड़ानपुल,इंदोरा का अशोक चौक उड़ान पुल,दिघोरी से नागपुर शहर की सीमा तक सड़क मार्ग का निर्माण,आरबीआई चौक से गड्डीगोदाम – टेका नाका को जोड़ने वाला पुल।

-पुराना भंडारा रोड,केलीबाग रोड,गणेश टेकड़ी मार्ग।
– नेताजी,संत्रा,गोलबाजार,कॉटन मार्केट को नए सिरे से विकसित करने का काम मेट्रो को सौपा गया है।
-महल में स्थित मार्केट को फिर से तैयार किया जायेगा और यहाँ से हस्तांतरित कर दुकानदारों को 30 वर्षो के लिए नए बन रहे मार्केट में जगह दी जायेगी।